कैसा रहा मोदी की चुनावी रैलियों का असर

  • 8 नवंबर 2015

बिहार चुनाव में लालू-नीतीश की जोड़ी ने मोदी-अमित शाह की जोड़ी को धूल चटा दी. अब तक आए नतीजों के अनुसार 243 सीटों वाले बिहार विधानसभा में नीतीश का महागठबंधन तीन-चौथाई बहुमत की ओर बढ़ रहा है.

भारतीय जनता पार्टी लगभग 50 सीटों पर सिमटती हुई दिखाई दे रही है.

इमेज कॉपीरइट MIB INDIA

लेकिन भाजपा के लिए एक बात शायद थोड़ी सी ख़ुशी देने वाली है. वो ये कि उसके स्टार प्रचारक नरेंद्र मोदी का मतदाताओं पर असर उनकी पार्टी से कहीं ज़्यादा है.

भाजपा ने 160 सीटों पर चुनाव लड़ा था. बाक़ी पर उनके सहयोगी एलजेपी, आरएलएसपी और हम लड़े थे.

जीत के हिसाब से भाजपा की जीत का प्रतिशत क़रीब 30 फ़ीसदी है लेकिन 'मोदी की जीत' का प्रतिशत उससे कहीं ज़्यादा है.

इमेज कॉपीरइट PRASHANT RAVI

मोदी ने प्रचार के दौरान 26 सीटों पर रैलियां की.

उनमें से भाजपा को 13 सीटों पर जीत हासिल हुई है. इसके अनुसार कहा जा सकता है कि मोदी का निजी स्ट्राइक रेट 50 फ़ीसदी रहा है. बाक़ी सीटों पर आरजेडी को 9, कांग्रेस को 3 और जेडी-यू को एक सीट पर सफलता मिली है.

हालांकि जिन 13 सीटों पर भाजपा को जीत हासिल हुई है उनमें से 5 सीटों पर हार-जीत का अंतर क़रीब पांच हज़ार का रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)