हार की वजह आरक्षण या बयानबाज़ी नहींः जेटली

अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट PTI

भारतीय जनता पार्टी के संसदीय बोर्ड ने सोमवार को बिहार में हार के कारणों पर विमर्श किया.

बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष मौजूद रहे. बैठक के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने हार का मूल कारण महागठबंधन के घटक दलों के सफल वोट ट्रांसफ़र को माना.

उन्होंने अपनी पार्टी के नेताओं की बयानबाज़ी या आरक्षण के मुद्दे को हार का कारण मानने से इंकार कर दिया.

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण संबंधी बयान पर जेटली ने कहा, "बीजेपी की नीति हमेशा से इस बारे में स्पष्ट रही है. हमने अपनी पार्टी के गठन की शुरुआत से ही सामाजिक आधार पर आरक्षण को स्वीकार किया है. आरएसएस की भी विचारधारा यही रही है. यह एक ग़लत मुद्दा था."

इमेज कॉपीरइट sunita zade
Image caption महागठबंधन ने आरक्षण पर संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान को अहम मुद्दा बनाया था.

नेताओं की बयानबाज़ी के सवाल पर जेटली ने कहा कि चुनावों के दौरान नेता ऐसे बयान दे देते हैं. एक बयान के ऊपर चुनाव तय नहीं होता है. चुनाव का अपना अलग गणित होता है.

अरुण जेटली ने बिहार चुनाव को मोदी सरकार पर जनमत मानने से भी इंकार कर दिया.

बिहार चुनाव नतीजों पर अरुण जेटली ने कहा, "हम नतीजों का आदर करते हैं और उम्मीद करते हैं कि नई सरकार बिहार में विकास और प्रगति लाने का काम करेगी."

हार का कारण बताते हुए जेटली ने कहा, "प्रारंभिक दृष्टि से मूल कारण हमें ये लगा है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में महागठबंधन के तीनों घटक आरजेडी, जदयू और कांग्रेस पार्टियां अलग-अलग से चुनाव लड़े थे. लोकसभा चुनावों में हमारा वोट प्रतिशत 38.8 था जबकि महागठबंधन के घटक दलों का सामूहिक वोट प्रतिशत 45.3 प्रतिशत था. महागठबंधन के घटक दलों का वोट ट्रांसफ़र हमारी उम्मीद से ज़्यादा हुआ."

इमेज कॉपीरइट PRASHANT RAVI

जेटली ने कहा, "हमें लगा था कि महागठबंधन के घटक दल वोट ट्रांसफ़र नहीं करवा पाएंगे. हमारा आंकलन ग़लत था."

जेटली ने कहा कि पार्टी बिहार में अपना आधार बढ़ाने पर मेहनत करेगी. उन्होंने कहा, "केंद्र सरकार के प्रदर्शन और अपने संगठन की ताक़त के आधार पर वहां आगे अपना वोट आधार बढ़ाने की चुनौती को हम स्वीकार करते हैं."

अरुण जेटली पार्टी ने नेताओं पर किसी तरह के कार्रवाई के संकेत नहीं दिए. आपत्तिजनक बयानों के संबंध में किए गए सवाल पर जेटली ने कहा, "किसी नेता पर कार्रवाई की कोई चर्चा नहीं हुई."

जेटली ने कहा, "मीडिया भी ऐसे साथियों की तलाश में रहती है, कैमरा भी उनकी ओर आकर्षित रहता है."

जेटली ने अपने नेताओं को सलाह देते हुए कहा कि सभी नेताओं को ग़ैर-ज़िम्मेदार बयानों से बचना चाहिए.

पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व पर किए गए सवाल पर जेटली ने कहा, "हम उनके नेतृत्व में कई चुनाव जीते हैं. चार अहम विधानसभा चुनाव जीते हैं. ऐसे में हमें सिर्फ़ हार ही नज़र आए ये सही नहीं. पार्टी सामूहिक रूप से जीतती है और सामूहिक रूप से हारती है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)