नीतीश कटारा हत्याकांड में फांसी नहीं

नीलम कटारा, नीतीश की मां इमेज कॉपीरइट PTI

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार की याचिका को ख़ारिज़ करते हुए स्पष्ट कर दिया है कि नीतीश कटारा की हत्या के दोषियों को फांसी की सजा नहीं दी जाएगी.

इस मामले में सजा पाए विकास और विशाल यादव फिलहाल आजीवन कारावास की सज़ा भुगत रहे हैं.

सर्वोच्च कोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा है कि वो विकास और विशाल के आजीवन कारावास की सज़ा की मियाद तय करने में मदद करे.

नीतीश कटारा मामले में कोर्ट ने अंतिम सुनवाई की तारीख़ जनवरी 2016 तय की है. कोर्ट के मुताबिक अब ये तय करना होगा कि दोषियों को 30 साल तक सजा दी जाए या जीवन भर के लिए.

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले महीने ही सुप्रीम कोर्ट ने नीतीश कटारा की मां नीलम कटारा की याचिका को ख़ारिज़ करते हुए विकास और विशाल को मौत की सज़ा देने से इनकार कर दिया था.

नीतीश कटारा को 2002 में गाज़ियाबाद में एक शादी समारोह से अगवा कर ज़िंदा जला दिया था.

इस मामले में पश्चिम उत्तर प्रदेश के चर्चित नेता डीपी यादव के बेटे और भतीजे को दोषी पाया गया.

इसी साल फरवरी में दिल्ली हाई कोर्ट ने दोनों को हत्या के आरोप में 25 साल की जेल और सबूतों को मिटाने के लिए पांच साल की सज़ा सुनाई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार