चेन्नई: बारिश के बाद सब्ज़ियों ने रुलाया

चेन्नई में बारिश के बाद हालात इमेज कॉपीरइट imran qureshi

तमिलनाडु में बुधवार को दूसरे दिन भी बारिश न होने से लोगों ने राहत की सांस ली है लेकिन चेन्नई में गंदगी, बदबू और महंगी सब्ज़ियों की समस्या खड़ी हो गई है.

तमिलनाडु में भारी बारिश की वजह से अब तक 79 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक महामारी फैलने से रोकने के लिए मेडिकल कैंपों में करीब 55 हज़ार लोगों की जांच की गई है.

चेन्नई में सप्लाई की कमी के कारण सब्ज़ियों के दाम आसमान छू रहे हैं.

चेन्नई में वलसाराक्कम इलाके में एक बुज़ुर्ग गृहणी शकुंतला नारायणन ने बीबीसी को बताया, " कोई सब्ज़ी ऐसी नहीं है जो 100 रु प्रति किलो से कम दाम पर बिक रही हो. टामटर, आलू, भिंडी या बैंगन सब तीन से चार गुना दाम पर बिक रहे हैं."

चेन्नई में बैंग्लुरू, कोलर, मलूर , चिंतामणी, चिकबल्लापुर और अन्य इलाकों से सब्ज़ियां पहुंचाई जाती हैं.

कर्नाटक सरकार के हॉर्टिकल्चर प्रॉड्यूसर्स कॉओपरेटिव सोसाटी के मार्केटिंग निदेशन एसएच केशव ने कहा, "बारिश की वजह से 30 से 40 फीसदी सब्ज़ियों की फ़सल ख़राब हो गई है."

वहीं चेन्नई के कोयमबेदु होलसेल ट्रेडर्स एसोसिएशन के वीआर सौंदराराजन ने कहा," हमें 200 टन टमाटर, 200 टन आलू, बैंगन और 60 टन प्याज़ मिलता था लेकिन अब हर सब्ज़ी सिर्फ 15 टन आई है."

इमेज कॉपीरइट AP

कमी की वजह से सब्ज़ियों का थोक भाव ही आसमान छू रहा है तो फिर बाज़ार में पहुंचते तक सब्ज़ियां लोगों को रुला रही हैं.

चेन्नई और पास के ज़िलों में कार कंपनी फ़ोर्ड मोटर्स, बीएमडब्ल्यू, रेनॉ-निसान की फैक्ट्रियां बारिश की वजह से दो दिन से लेकर हफ्ते तक बंद रही हैं.

हुन्डई मोटर्स के वाइस प्रेसिडेन्ट स्टीफ़न सुधाकर ने कहा, "प्रॉडक्शन को लेकर हम पिछड़े नहीं हैं. लेकिन डिलिवरी में हम पीछे हो गए हैं जो कि तीन से चार दिन में सामान्य हो जाएगी. "

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार