पंजाब में अमन ख़त्म करना चाहती है कांग्रेस: सुखबीर

  • 21 नवंबर 2015
सुखबीर बादल इमेज कॉपीरइट AFP

पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने दिल्ली में एक प्रेस वार्ता कर कांग्रेस पर पंजाब का माहौल ख़राब करने के आरोप लगाए हैं.

सुखबीर सिंह बादल ने आरोप लगाया कि हाल के दिनों में पंजाब में जो घटनाएं हुई हैं वो कांग्रेस की साज़िश का नतीजा थीं.

बादल ने कहा, "कांग्रेस राहुल गांधी के नेतृत्व में पंजाब में वैसा माहौल बनाना चाह रही है जैसा कि 80 के दशक में था."

कांग्रेस ने बादल के आरोपों को खारिज कर दिया है. कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने कहा, "कांग्रेस के मूल में राष्ट्रवाद है. कोई हम पर सवाल नहीं कर सकता. सवाल तो हमेशा से अकाली दल जैसी पार्टियों पर लगते रहे हैं."

बादल के आरोपों पर कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने टीवी चैनल टाइम्स नाऊ से कहा, "ये दुखद है कि अकाली दल इस तरह बात कर रहे हैं. उन्हें पंजाब में हार दिखाई दे रही है. ये उसी की खीज है. सभी आरोप झूठ का पुलिंदा है. अकाली दल भूल गया है कि कांग्रेस ने अपने शीर्ष नेताओं को चरमपंथ के ख़िलाफ़ लड़ाई में खोया है."

इमेज कॉपीरइट Ravinder singh robin bbc

सुखबीर बादल ने आरोप लगाया कि राहुल गांधी ऐसे संगठनों के साथ मिलकर पंजाब में महागठबंधन बना रहे हैं जो खुले तौर पर अलगाववादी हैं.

उन्होंने कहा कि इन संगठनों को पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई का समर्थन प्राप्त है.

सुखबीर ने आरोप लगाया कि अमृतसर में सिखों के लिए अलग राष्ट्र की मांग करने वाली रैली के पीछे कांग्रेस थी.

उन्होंने कहा, "मैं राहुल गांधी से पूछना चाहूँगा कि उन्होंने रैली में शामिल कांग्रेस नेताओं पर कार्रवाई क्यों नहीं की?"

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption सुखबीर बादल का कहना है कि अमृतसर में हुई सरबत खालसा में अलग खालिस्तान की मांग की गई.

सुखबीर बादल ने आरोप लगाए हैं कि अमृतसर में हुई सिखों की सरबत खालसा में क्या प्रस्ताव पारित किए जाने हैं ये कांग्रेस ने निर्देशित किया था.

दस नवंबर को अमृतसर में हुई सिखों की सरबत खालसा के तले एक बड़ा धार्मिक आयोजन किया गया था जिसके प्रमुख संयोजक सिमरनजीत सिंह मान और मोहकम सिंह थे.

हरमंदिर साहिब परिसर से लगभग 20 किलोमीटर दूर सिख नेताओं के आह्वान पर हज़ारों सिख इकट्ठा हुए थे.

सत्ताधारी अकाली दल का विरोध कर रहे सिख नेताओं ने 'सरबत ख़ालसा' में पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या के दोषी जगतार सिंह हवारा को अकाल तख़्त का जत्थेदार नियुक्त किया था. हवारा अभी जेल में हैं.

इस सरबत खालसा को लेकर ये विवाद भी हुआ कि इसे मौजूदा अकाल तख़्त जत्थेदार की रज़ामंदी से नहीं बुलाया गया था.

इमेज कॉपीरइट PTI

जब सुखबीर बादल से पूछा गया कि क्या आप रैली करने वालों को गिरफ़्तार करेंगे तो उन्होंने कहा कि हर ज़रूरी क़ानूनी कार्रवाई की जाएगी.

उन्होंने कहा कि क़रीब पच्चीस लोगों को गिरफ़्तार भी किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)