किरण ने देश छोड़ने की बात की थी: आमिर

आमिर खान इमेज कॉपीरइट AFP

अभिनेता आमिर खान भी असहिष्णुता को लेकर जारी बहस में शामिल हो गए हैं. आमिर ने कहा कि वो असहनशीलता की बढ़ती घटनाओं को लेकर चिंतित हैं और एक बार तो उनकी पत्नी किरण राव ने उनसे कहा था कि क्या उन्हें देश छोड़ देना चाहिए.

आमिर खान ने दिल्ली में आयोजित रामनाथ गोयनका पत्रकारिता पुरस्कार समारोह में कहा, "जब मैं घर पर किरण से बात कर रहा था तो उन्होंने कहा क्या हमें भारत छोड़ देना चाहिए? ये दुखद और किरण की ओर से दिया गया बड़ा बयान है. वो अपने बच्चों को लेकर चिंतित हैं. वो अपने आसपास के माहौल को लेकर डरती हैं. वो हर दिन समाचार पत्र खोलते वक्त भयभीत रहती हैं. "

आमिर खान ने कहा कि उन्हें लगता है कि बेचैनी बढ़ रही है. इसे लेकर आप उदास होते हैं कि ऐसा क्यों हो रहा है.

आमिर खान ने कहा, "देश के नागरिक के तौर पर हम अखबार में पढ़ते हैं कि क्या हो रहा है. हम समाचार में देखते हैं और निश्चित तौर पर मैं चिंतित हूं. मैं इससे इनकार नहीं कर सकता. मैं तमाम घटनाओं को लेकर चिंतित हूं."

उन्होंने कहा कि किसी भी समाज के लिए सुरक्षा और न्याय का भाव होना जरुरी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

आमिर खान ने असहनशीलता के मुद्दे पर पुरस्कार लौटाने वाले लेखकों, कलाकारों और दूसरे बुद्धिजीवियों का भी समर्थन किया.

उन्होंने कहा कि पुरस्कार लौटाना रचानात्मक लोगों का अपनी निराशा जाहिर करने का एक तरीका है.

आमिर खान के पहले अभिनेता शाहरुख खान भी बढ़ती असहनशीलता को लेकर चिंता जाहिर कर चुके हैं.

आमिर खान ने मजहब के नाम पर हिंसा की भी निंदा की. उन्होंने कहा कि जो लोग इस्लाम के नाम पर मासूम लोगों की जान लेते हैं उन्हें वो ठीक नहीं मानते.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार