बिहार: महिला एमएलए अनेक, पर मंत्री…?

नीतीश कुमार इमेज कॉपीरइट NITISH TWITTER

क्या आपको पता है कि पांचवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार की 28 सदस्यीय कैबिनेट में मात्र दो महिलाएं हैं?

और क्या आपको किसी ने बताया कि 2015 के बिहार विधानसभा चुनावों में महिलाओं ने पुरुषों से ज़्यादा प्रतिशत में वोट दिया?

आंकड़े और हक़ीक़त वाकई में कान खड़े करने वाले हैं क्योंकि सच्चाई यही है कि नीतीश कुमार की कैबिनेट में महिलाओं का प्रतिशत मात्र 7.14 प्रतिशत है.

इमेज कॉपीरइट AFP

ग़ौरतलब ये भी है कि बिहार चुनावों में पुरुष मतदाताओं ने 54 प्रतिशत, जबकि कुल महिला मतदाताओं में 59 प्रतिशत घरों से बाहर निकल कर वोट डाला.

लेकिन इसके बावजूद मंत्रिमंडल में ज़्यादा जगह न मिलने से थोड़ी हताशा भी दिख रही है.

राष्ट्रीय जनता दल की टिकट पर चुनी गईं विधायक प्रेमा चौधरी ने इस विषय पर थोड़ा कतराते हुए जवाब दिया.

इमेज कॉपीरइट EPA

प्रेमा चौधरी ने कहा, "इस सवाल का जवाब हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष से पूछ्ते तो बेहतर रहता. हमने भी पार्टी के लिए काम किया है और आगे भी करेंगे ही. मंत्री न बनने पर मायूसी तो होगी ही, क्योंकि इच्छा तो होती ही है. लेकिन अभी मंत्रिमंडल का विस्तार होना है और पांच सीटें आरजेडी से भरी जाएंगी. उम्मीद है कि लालू जी इस पर अमल करेंगे".

अगर आप आंकड़ों पर नज़र डालेंगे तो एक बार लगेगा कि बिहार में नतीजे भी महिलाओं के ही पक्ष में रहे.

भारतीय जनता पार्टी ने जिन 151 सीटों पर चुनाव लड़ा, उनमे से 15 टिकट महिलाओं को दीं और चार की जीत भी हुई.

लालू की आरजेडी ने तो 101 में से 10 सीटों पर महिलाओं को टिकट दिया और सभी अपना चुनाव जीत गईं.

इमेज कॉपीरइट biharpictures.com

नीतीश की जदयू ने भी 10 महिलाओं को टिकट दिया और उनमें से नौ को जीत हासिल हुई.

और तो और, कांग्रेस पार्टी की ओर से पांच सीटों पर चुनाव लड़ने वाली महिलाओं में से चार विजयी हुईं.

वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक अदिति फड़नीस को उम्मीद थी कि नीतीश ज़्यादा महिलाओं को आगे लाएंगे, लेकिन उन्हें कोई अफ़सोस भी नहीं.

उन्होंने कहा, "नीतीश कुमार ने बतौर मुख्यमंत्री महिलाओं के लिए बहुत बेहतरीन काम किए हैं और उन्हें आगे लाने में एक सक्रिय भूमिका निभाई है. चाहे वो पंचायत स्तर पर हो या स्कूल-कॉलेजों के स्तर पर. इसलिए मुझे नहीं लगता कि फिलहाल के मंत्रिमंडल में प्रतिनिधित्व का कोई विपरीत असर दिखेगा".

इमेज कॉपीरइट pti

लेकिन अदिति चेताती भी हैं कि चूंकि ये एक गठबंधन सरकार है इसलिए भविष्य के बारे में पूर्वानुमान नहीं लगाया जा सकता है.

उन्होंने कहा, "लालू जी ने अपनी पत्नी राबड़ी देवी को भी मुख्यमंत्री बनाया था लेकिन महिलाओं की स्थिति में कोई ख़ास फ़र्क नहीं पड़ा था. कुल मिलाकर हमें उस तरह की सोच से डर लगना चाहिए, न कि इस बात से कि कितनी महिलाएं कैबिनेट में हैं और कितनी नहीं. नीतीश एक मंझे हुए नेता हैं और शायद चीज़ें बेहतर ही होती रहेंगी".

बहराल नीतीश मंत्रिमंडल में जहाँ पुराने दिग्गज राजनेताओं का बोलबाला है, वहीँ जदयू और राजद की एक-एक महिला विधायक को भी शामिल किया गया है.

इमेज कॉपीरइट epa

लेकिन भविष्य में क्या होगा इसके बारे में आरजेडी विधायक प्रेमा चौधरी की टिप्पणी सटीक बैठती है.

प्रेमा चौधरी कहती हैं, "नीतीश जी पर बिहार की महिलाओं का बहुत भरोसा है. इसी वजह से इस बार भी वोट मिला है".

आप समझ ही गए होंगे कि गेंद अब किसके पाले में है!

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार