'हेल्पलाइन से कहीं लेने के देने न पड़ जाएं'

इमेज कॉपीरइट P M TEWARI

‘अगर आप व्यापारी हैं और कोई आपसे रंगदारी मांग रहा है तो फौरन हेल्पलाइन नंबर पर फोन करें. आपकी शिकायत पर तुरंत कार्रवाई की जाएगी.’

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता से सटे हावड़ा में तृणमूल कांग्रेस नेताओं की ओर से कथित तौर पर जबरन उगाही या रंगदारी वसूलने के बढ़ते आरोपों को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पहल पर हावड़ा नगर निगम ने एक रंगदारी हेल्पलाइन शुरू की है.

समझा जाता है कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए व्यापारियों और निवेशकों में भरोसा पैदा करने के लिए ही इस अनूठी हेल्पलाइन को शुरु किया गया है.

इमेज कॉपीरइट P M TEWARI

हावड़ा नगर निगम के मेयर रथीन चक्रवर्ती कहते हैं, "मुख्यमंत्री के निर्देश पर यह हेल्पलाइन शुरू की गई है. हावड़ा के एक प्रमुख औद्योगिक शहर होने की वजह से ममता ने व्यापारियों और खासकर विदेशी निवेशकों में सुरक्षा और भरोसा पैदा करने के लिए हरसंभव कदम उठाने को कहा है."

बीते एक साल के दौरान हावड़ा में व्यापारिक गतिविधियों में तेज़ी आई है.

कचरे से बिजली बनाने की 3000 करोड़ रुपए लागत वाली एक जर्मन परियोजना पर काम चल रहा है, वहीं ज़िले के बंद कारखानों को दोबारा चालू करने की संभावनाओं को तलाशने के लिए जापान के एक प्रतिनिधिमंडल ने भी बीते दिनों इलाके का दौरा किया था.

उसने ज़िले में विभिन्न परियोजनाओं पर 500 करोड़ के निवेश का भरोसा दिया है. इसके अलावा यहां आए चीन के उपराष्ट्रपति ली यूनचान ने भी हावड़ा के दौरे के बाद निवेश के प्रति दिलचस्पी दिखाई थी.

इमेज कॉपीरइट P M TEWARI

बढ़ती व्यापारिक गतिविधियों की वजह से तृणमूल कांग्रेस के कथित संरक्षण वाले असामाजिक तत्वों ने जबरन उगाही बढ़ा दी है. हाल में ऐसे कई मामले सामने आए थे.

सत्ताधारी पार्टी के नेताओं का संरक्षण होने की वजह से व्यापारी ऐसे मामलों की शिकायत करने से डरते हैं. लेकिन अब हेल्पलाइन के जरिए शिकायत करने पर उनकी पहचान गोपनीय रखी जाएगी.

मेयर रथीन चक्रवर्ती कहते हैं, "हम हर शिकायत को गंभीरता से लेंगे और उस पर त्वरित कार्रवाई की जाएगी."

इमेज कॉपीरइट P M TEWARI

व्यापारियों ने सरकार की इस पहल की सराहना तो की है, लेकिन उनको अब भी इसके प्रति भरोसा नहीं है.

एक फैक्टरी के मालिक नाम नहीं छापने की शर्त पर कहते हैं, "पूरा मामला सत्ताधारी पार्टी से जुड़ा है. कहीं हमारी शिकायत की ख़बर या पहचान सामने आ गई तो हमें लेने के देने पड़ जाएंगे. इसलिए फिलहाल हम ‘इंतज़ार करो और देखो’ की रणनीति पर आगे बढ़ रहे हैं."

नगर निगम के ट्रेड डेवलपमेंट ज़ोन के उपाध्यक्ष शैलेश राय कहते हैं, "यह हेल्पलाइन औद्योगिक तबके में भरोसा पैदा करने की कवायद है. व्यापारियों को रंगदारों से बचाने के साथ ही यह उनके लाइसेंस और जरूरी प्रमाणपत्र हासिल करने में आने वाली तमाम समस्याओं के समाधान के लिए सिंगल विंडो के तौर पर भी काम करेगी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार