निशाना मैं हूँ, तो सीधे कार्रवाई करें: चिदंबरम

कार्ति के साथ पी चिदंबरम

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने बेटे कार्ति चिदंबरम से जुड़ी कंपनियों पर पड़े प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग के छापों को 'दुर्भावना से की गई कारवाई' बताया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने पी चिदंबरम के हवाले से कहा है कि 'ये कार्रवाई वर्तमान सरकार दुर्भावना के तहत कर रही है.'

प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग ने मंगलवार को पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम की चेन्नई स्थित कंपनियों पर छापे मारे हैं.

सरकारी टीवी चैनल दूरदर्शन के मुताबिक़ ये छापे एयरसेल-मैक्सिस घोटाले के संबंध में हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने चिदंबरम के हवाले से कहा है- ''अगर सरकार ने मुझे निशाना बनाना है तो (कार्रवाई) सीधे मुझ पर करे."

इमेज कॉपीरइट AFP

इसी साल अगस्त में प्रवर्तन निदेशालय ने एडवांटेज स्ट्रैटेजिक कंसल्टिंग के दो निदेशकों को बुलाकर सवाल जवाब किए थे.

सरकारी विभागों का आरोप है कि एडवांटेज कंसल्टिंग ने एयरसेल को 26 लाख रुपये दिए थे और बाद में कंपनी ने एयरसेल-मैक्सिस डील से मुनाफा भी कमाया था.

पिछले साल दिसंबर में प्रवर्तन निदेशालय ने पूर्व टेलीकॉम मंत्री दयानिधि मारन और उनके भाई कलानिथि से भी पूछताछ की थी.

इमेज कॉपीरइट karti p chidambaram facebook

प्रवर्तन निदेशालय ने उनकी कंपनी सन नेटवर्क की सभी कंपनियों के वित्तीय लेनदेन की भी जांच की थी.

मामला मार्च 7, 2006 का है जब बतौर वित्ती मंत्री पी चिदंबरम ने एयरसेल में मैक्सिस के निवेश को हरी झंडी दी थी.

हालांकि पी चिदंबरम शुरू से ही कार्ति के एयरसेल-मेक्सिस डील से कोई लेना-देना ना होने की बात दोहराते रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)