पेस के साथ कम खेला, अफ़सोस है: नवरातिलोवा

जानी मानी टेनिस खिलाड़ी मार्टिना नवरातिलोवा ने अफ़सोस ज़ाहिर किया है कि उन्हें करियर के बेहतरीन दिनों में लिएंडर पेस के साथ खेलने का मौक़ा नहीं मिला. भारत के सफलतम टेनिस खिलाडियों में से एक लिएंडर ने कहा कि अगर मार्टिना के साथ और खेलने का मौक़ा मिलता तो वे दर्जनों ग्रैंड स्लैम जीत सकते थे.

बहराल, इन दोनों दिग्गजों ने कुल मिलाकर 66 ग्रैंड स्लैम प्रतियोगिताएँ जीती है जिनमे अकेले मार्टिना के नाम 49 ख़िताब हैं जिसमें एकल, युगल और मिश्रित युगल शामिल हैं. अब मार्टिना 59 वर्ष की हो चुकीं हैं लेकिन हर साल कुछ मैचों में पेस के साथ प्रमोशनल (जिन मैचों एक रिकॉर्ड दर्ज नहीं किए जाते) मैचों में भाग लेती हैं. उन्होंने कहा, "मैंने और पेस ने दो मिश्रित युगल ग्रैंड स्लैम जीते और उनके साथ खेलने पर मुझे ऐसा लगता था कि जैसे एक नई ऊर्जा आ गई हो. बस इतना ही अफ़सोस है कि जब मैं अपने करियर के शीर्ष पर थीं तब पेस के साथ नहीं खेल सकी, वरना हम मिलकर और जीतें हासिल कर सकते थे." नवरातिलोवा हाल में भारत आई थीं और लिएंडर पेस के साथ मिलकर महेश भूपति और सानिया मिर्ज़ा के साथ तीन मैच खेले थे.

लिएंडर पेस ने भी इस ख़ास बातचीत में कहा कि उन्हें इस पर पर गर्व है कि मार्टिना के साथ पहले भी खेलने का मौक़ा मिला और अभी भी मिलता रहता है.

उन्होंने कहा, "मार्टिना के साथ खेलने की यादें हमेशा ताज़ी रहेंगी. वे एक मशहूर खलाड़ी होने के अलावा एक बेहतरीन इंसान भी हैं और ये काबिले तारीफ़ है. मेरी तो वो सबसे अच्छी दोस्तों में से एक हैं और हमेशा मेरी मदद करने के लिए आगे आती रहीं हैं."

लिएंडर से मैंने इस बात का राज़ भी जानना चाहा कि उनकी उम्र 42 वर्ष हो चुकी है लेकिन उनके खेल में कोई ढलान क्यों नहीं दिखती और वे पहले की तरह ही फ़िट भी हैं. उन्होंने जवाब दिया, "इस बात में कोई शक नहीं कि मैं अपनी पार्टनर रह चुकी मार्टिना नवरातिलोवा से बहुत प्रभावित हूँ. उन्होंने 49 वर्ष तक टेनिस प्रतिस्पर्धाओं में शिरकत की थी और मेरी कोशिश यही रहती है कि अपने खेल को और बेहतर बनाया जा सके". वैसे लिएंडर पेस को छुट्टी के दिनों में मिठाई और ख़ास तौर से जलेबी खाना बहुत पसंद है और उन्होंने बताया कि उनकी दादी गोवा की होने के नाते बेहतरीन पुर्तगाली खाना बनाती थी और चूंकि लिएंडर की माँ बंगाली हैं तो उन्हें पूरब के खाने भी बहुत प्रिय हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार