'धर्म को बर्दाश्त कर सकते हैं, बढ़ावा नहीं दे सकते'

  • 1 दिसंबर 2015
इमेज कॉपीरइट PTI

पूर्व भाजपा नेता और सांसद राम जेठमलानी ने कहा है कि अंबेडकर के बनाए संविधान के मुताबिक 'धर्म को बर्दाश्त तो किया जा सकता है लेकिन उसे प्रोत्साहन नहीं दिया जा सकता है.'

राम जेठमलानी संसद में डॉक्टर बीआर अंबेडकर और संविधान पर जारी बहस के दौरान राज्यसभा में बोल रहे थे.

साल 2015 भारत के संविधान निर्माता के नाम पर जाने जाते भीमराव अंबेडकर की 125वीं जयंती है.

हाल में ही ये बहस होती रही है कि धर्मनिरपेक्ष शब्द का संविधान में होना कितना ज़रूरी है या नहीं.

जेठमलानी ने कहा कि हालांकि धर्मनिरपेक्ष शब्द संविधान की प्रस्तावना में आपातकाल के दौरान जोड़ा गया, लेकिन धर्मनिरपेक्षता की भावना भारतीय संविधान में रची बसी है.

उनका कहना था, "अंबेडकर ने भारत को एक धर्मनिरपेक्ष संविधान दिया था. धर्मनिरपेक्षता धर्म पर विज्ञान की, ज्ञान की अज्ञानता पर जीत है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार