बेकार साबित हुई तो रुक जाएगी कार योजना

  • 5 दिसंबर 2015
इमेज कॉपीरइट PTI

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि निजी वाहनों को सम-विषम नंबरों के आधार पर चलाने की योजना कुछ समय आज़माई जाएगी और अगर इससे लोगों को समस्या होगी तो इसे रोक दिया जाएगा.

विशेषज्ञों और विपक्षी दलों ने इस योजना की व्यावहारिकता पर सवाल उठाए हैं. इस पर केजरीवाल का कहना था कि कुछ निजी वाहनों को इससे बाहर रखने जैसी कई बातों पर विचार होना है और इस फ़ैसले से पहले इस पर पूरा सोच-विचार किया गया था.

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

एचटी लीडरशिप समिट में मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा, "सैद्धांतिक तौर पर एक फ़ैसला लिया गया. कई चीज़ों पर अभी भी विचार हो रहा है. कुछ समय इस योजना पर प्रयोग होगा शायद 15 दिनों तक. अगर बहुत सी समस्याएं होती हैं तो इसे रोक दिया जाएगा."

केजरीवाल ने कहा कि उनकी सरकार इस योजना को सार्वजनिक परिवहन को मज़बूत बनाने के बाद लागू करना चाहती थी लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट के दिल्ली को ‘गैस चैंबर’ कहे जाने के बाद जिस तरह की स्थित पैदा हुई उसकी वजह से इसे तुरंत लागू करना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

उन्होंने कहा, "एक तरह का भय का माहौल पैदा हो गया कि प्रदूषण इतना बढ़ गया है कि कुछ कड़े क़दम उठाना ज़रूरी है."

वायु प्रदूषण को घटाने के लिए दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को ऐलान किया था कि सम और विषम नंबरों वाले वाहनों को एक दिन छोड़कर ही सड़कों पर आने की इजाज़त दी जाएगी. यह योजना एक जनवरी से लागू होनी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार