क़त्ल के मामले में तीन एनआरआई गिरफ़्तार

  • 7 दिसंबर 2015
पंजाब पुलिस इमेज कॉपीरइट AFP

ज़मीन विवाद सुलझाने के लिए तीन दशक बाद ब्रिटेन से जालंधर लौटे तीन अप्रवासी भारतीयों को पंजाब पुलिस ने गिरफ़्तार किया है.

इन तीन एनआरआई के अलावा 8 अन्य लोगों को भी गिरफ़्तार किया गया है.

जालंधर के एडीसीपी सिटी (द्वितीय) अमरीक सिंह पवार ने बताया, "ज़मीन विवाद में गिरफ़्तार किए गए एनआरआई के रिश्तेदार शिंगारा चंद को गोली मार दी गई थी और झगड़े में कई लोग घायल भी हुए थे. शिंगारा चंद के भाई लक्ष्मण दास ने शिकायत दर्ज कराई थी."

इन पर आईपीसी की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

एक अभियुक्त के करीबी हरपाल सिंह ने बीबीसी को बताया कि तीनों एनआरआई रेशम चंद, पाल राम और मोहिंदर पाल समेत कुछ लोग 5 नवंबर को सालासर गांव में अपनी ज़मीन खाली करवाने आए थे जिस पर पिछले 40 साल से उनके रिश्तेदार खेती कर रहे थे.

लक्ष्मण सिंह के परिवार वालों ने रेशम चंद और अन्य लोगों पर हमला कर दिया.

एनआरआई मोहिन्दर सिंह के दामाद राज पनेसर ने कहा कि पंजाब पुलिस ने ग़लत तरीके से इन लोगों को गिरफ्तार किया है.

रेशम चंद के वकील दर्शन सिंह दयाल ने बताया कि कपूरथला की सेन्ट्रल जेल में रखे गए सभी 11 लोगों की उम्र 70 से 103 वर्ष के बीच है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)