'दो दिन में एक बार टॉयलेट जा रहे हैं'

चेन्नई इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

भारी बारिश के बाद पैदा हालात से निपटने के लिए चेन्नई में कई दिनों से युद्धस्तर पर राहतकार्य जारी है लेकिन अब भी कुछ इलाक़े ऐसे हैं, जहां हालत भयावह हैं.

इन हालात में कुछ लोग नालियों के ओवरफ़्लो के कारण टॉयलेट इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं.

एक स्थानीय कॉलेज में सिविल इंजीनियरिंग के असिस्टेंट प्रोफ़ेसर प्रणव बताते हैं, ''हम लोग ऐसी हालत में हैं कि यहां दो दिन में एक बार ही टॉयलेट जा पा रहे हैं. सीवर ओवरफ़्लो होने के कारण पानी टॉयलेट में आ रहा है.''

प्रणव पोरून के रामापुरम में रहते हैं, जहां कई गलियों में अब भी पानी भरा है.

इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

एस मुथुस्वामी यहां 43 साल से रहते हैं और उनका दावा है कि उन्होंने पहले ऐसी आपदा नहीं देखी.

मुथुस्वामी ने कहा, ''जिस पड़ोसी के घर पर हमने कुछ दिनों से पनाह ले रखी थी, उससे नीचे भी नहीं आ पा रहे थे. मच्छरों से परेशान होकर सोमवार को मैंने अपनी बेटी को शहर में दूसरी जगह शिफ़्ट किया. मंगलवार को हमने नया पंप खरीदा और यहां सफ़ाई के लिए आ गए.''

बुज़ुर्ग कार्तिकेयन कहते हैं कि गलियों में अभी भी पानी है लेकिन सोमवार को जब तक लोगों ने प्रदर्शन नहीं किया तब तक कोई अधिकारी देखने नहीं आया.

कार्तिकेयन कहते हैं, ''हर जगह सीवर सिस्टम है लेकिन यह हमारे घरों में बह रहा है.''

इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

वहीं प्रणव कहते हैं, ''कुछ लोगों ने अपने ड्रेनेज सिस्टम को चक्रवाती पानी के लिए बनी पाइप लाइनों से जोड़ दिया है. यही कारण है कि बारिश के पानी में सीवर का पानी मिलकर घरों में पहुँच रहा है.''

उन्होंने बताया, ''यह कहना बेहद मुश्किल है कि यह कहां से शुरू हुआ है क्योंकि हम लोग सबसे अंत में हैं.''

प्रणव ने अपने परिवार को पहली मंज़िल पर शिफ़्ट कर दिया है क्योंकि ग्राउंड फ़्लोर पर ड्रेनेज की गंदगी भरी है.

वे कहते हैं, ''हमने पहली मंज़िल का प्रवेश द्वार अलग बनाया है. अब भी ड्रेनेज की गंदगी हमारे घर में आ रही है, इस कारण हम टॉयलेट का इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं.''

इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

लोगों के प्रदर्शन के बाद फ़ुटपाथ के पास चक्रवाती पानी को ले जाने वाली पाइपलाइन खोदने के लिए प्रशासन ने मंगलवार को जेसीबी भेजी.

इससे और मुसीबतें बढ़ गईं. इसके अलावा लोग घर से पानी निकालने के लिए भारी पंप इस्तेमाल कर रहे हैं.

कार्तिकेयन कहते हैं, ''यहां पूरी तरह अव्यवस्था फैली हुई है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार