सलमान के मामले में कैसी कैसी स्थिति पैदा हो सकती है?

साल 2002 के हिट एंड रन मामले में अभिनेता सलमान ख़ान बॉम्बे हाई कोर्ट के फ़ैसले का इंतज़ार कर रहे हैं.

मुंबई की निचली अदालत ने सलमान ख़ान को इस मामले में दोषी मानते हुए पांच साल की सज़ा सुनाई थी. जिसे सलमान ख़ान ने हाई कोर्ट में चुनौती दी है.

बॉम्बे हाई कोर्ट ने इस मामले में फ़ैसला लिखवाने की प्रक्रिया शुरु कर दी है और किसी भी दिन अदालत अपना फ़ैसला सुना सकती है.

अभी तक न्यायमूर्ति एआर जोशी ने इस फ़ैसले में अभियोजन पक्ष की ओर से अदालत में पेश किए गए गवाहों के बयानों में मौजूद त्रुटियों का उल्लेख किया है.

उन्होनें कहा है कि इस मामले में गवाहों के बयान का फिर से विश्लेषण होना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट AFP

अदालत ने कहा है कि वो सलमान को दोषी करार दिया जाए या नहीं, इस बात पर अपना फ़ैसला देगी. साथ ही वह पुलिस की ओर से सलमान को उपलब्ध कराए गए अंगरक्षक रवींद्र पाटिल की गवाही मान्य है या नहीं, इस पर भी फ़ैसला सुनाएगी.

अगर हाई कोर्ट निचली अदालत के फ़ैसले को सही मानते हुए सलमान को दोषी मानता है तो ऐसी स्थिति में सबसे बड़ा नुकसान सलमान की आने वाली फ़िल्म सुल्तान को होगा जिसकी शूटिंग अभी चल रही है.

जानकारों की मानें, तो अगर दोषी ठहराए जाने पर सलमान इस फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देते हैं, तो उन्हें ज़मानत में एक्सटेंशन लेने में असुविधा नहीं होगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

अगर निचली अदालत के फ़ैसले को ग़लत मानकर उच्च न्यायालय सलमान को बरी कर देता है, तो ये सलमान के लिए बड़ी राहत होगी लेकिन अभियोजन पक्ष के पास सुप्रीम कोर्ट में अपील करने का रास्ता खुला रहेगा.

फ़िलहाल यह मामला उच्च न्यायालय में विचाराधीन है और जज अपना फ़ैसला लिखवा रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार