गोधरा का सबसे नया शिकार, चार दिन की बच्ची

  • 11 दिसंबर 2015
नवजात बच्ची के साथ मारिया और इरफ़ान. इमेज कॉपीरइट Prashant Dayal
Image caption नवजात बच्ची के साथ मारिया और इरफ़ान.

सवेरा एक प्यारी सी गोलमटोल लड़की है, जो 7 नवंबर को पैदा हुई है. अपने घर का पहला बच्चा ज़ाहिर है पिता की आँखों का तारा है.

सवेरा के पिता पुलककर बताते हैं "ये मेरी ज़िंदगी में नया सवेरा लेकर आई है."

लेकिन सवेरा दूसरे बच्चों से अलग है, वो गोधरा में ट्रेन जलाए जाने की घटना का सबसे नया शिकार है. सवेरा के पिता हैं गोधरा टाउन के इरफ़ान.

इरफ़ान को गोधरा पुलिस ने फ़रवरी 2002 में गिरफ़्तार किया था. उन पर कारसेवकों से भरी ट्रेन की बोगी में आग लगाने का आरोप था. ज़िला अदालत ने इरफ़ान को दोषी क़रार दिया और उन्हें मौत तक जेल में रहने की सज़ा सुनाई. इरफ़ान पूरे 12 साल जेल में काट चुके हैं.

अपनी बेगुनाही का दावा करते हुए इरफ़ान ने गुजरात हाईकोर्ट में अपील की, जिसके बाद पिछले साल उन्हें कोर्ट से ज़मानत मिली और वे गोधरा आ गए.

इमेज कॉपीरइट Prashant Dayal

तब इरफ़ान की दूर की रिश्तेदार मारिया भी कराची से एक साल के वीज़ा पर भारत आई थीं.

कुछ ही दिनों में दोनों ने निकाह कर लिया और मारिया ने भारत के विदेश मंत्रालय से लंबी अवधि का वीज़ा मांगा.

इरफ़ान ने बीबीसी को बताया, ''इतने साल बाद भी पुलिस का रवैया नहीं बदला है. मारिया ने जो अर्ज़ी ज़िला पुलिस अधिक्षक को दी थी, वह महीनों पड़ी रही.''

बीते अक्टूबर में मारिया को पाकिस्तान लौटना था, लेकिन तब मारिया गर्भवती थीं. इरफ़ान की अपील पर गुजरात हाईकोर्ट ने मारिया को अपने बच्चे को जन्म देने के लिए भारत में रहने की इजाज़त दे दी.

साथ में मारिया को यह आदेश दिया गया कि वे बच्चे को जन्म देने के 30 दिनों के भीतर उसे लेकर पाकिस्तान लौट जाएंगी.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

सात नवंबर को इरफ़ान और मारिया की ज़िंदगी में दो समाचार आए. एक अच्छा और दूसरा बुरा.

मारिया ने बेटी को जन्म दिया, दूसरी तरफ़ विदेश मंत्रालय ने मारिया की वीज़ा बढ़ाने की मांग ख़ारिज कर दी.

गोधरा के ज़िला पुलिस अधीक्षक राधवेंद्र वत्स ने बीबीसी को बताया कि पुलिस ने जो रिपोर्ट विदेश मंत्रालय को भेजी थी, उसमें वीज़ा की अवधि बढ़ाने की मांग का विरोध किया गया था.

अब इरफ़ान भारतीय हैं, मारिया पाकिस्तानी और उनकी नवजात बेटी सवेरा भारत में पैदा होने के चलते भारतीय हैं.

अब अगर मारिया वापस लौटती हैं तो उन्हें बेटी के लिए पाकिस्तानी वीज़ा लेना पड़ेगा.

इमेज कॉपीरइट EPA

इरफ़ान कहते हैं, ''मैं इतनी जल्दी हार नहीं मानूंगा. मैं सुप्रीम कोर्ट जाऊंगा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गुज़ारिश करूंगा कि मुझे मेरी बेटी और मारिया के साथ रहने दिया जाए.''

शायद इरफ़ान को भरोसा है कि भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में आई ताज़ा गर्माहट उनके परिवार को एक रख पाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार