विपक्ष को परेशान करने का जनादेश नहीं: नीतीश

नीतीश कुमार इमेज कॉपीरइट neerajsahay

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गुरुवार को कांग्रेस के समर्थन में सामने आए. नेशनल हेराल्ड मामले में चल रहे विवाद पर उन्होंने कहा कि राजनीति में बदले की भावना नहीं होनी चाहिए और विपक्ष को परेशान नहीं किया जाना चाहिए.

संसद के बाहर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, ''लोकतांत्रिक प्रक्रिया में जनता के लिए काम करने का एक उद्देश्य होता है. आपको विपक्ष को परेशान करने का जनादेश नहीं मिलता है.''

इमेज कॉपीरइट EPA

कांग्रेस का आरोप है कि मौजूदा सरकार राजनीति से प्रेरित होकर प्रवर्तन निदेशालय का इस्तेमाल कर रही है, इस बारे में सवाल पूछे जाने पर नीतीश कुमार ने कहा, ''अगर कांग्रेस ने कुछ कहा है तो यह सोच-समझ कर ही बोला गया होगा. मेरे पास पूरे तथ्य नहीं हैं. लेकिन अगर कांग्रेस ऐसा कह रही है तो इसका कुछ मतलब होगा, नहीं तो पार्टी ऐसा कहती ही क्यों?''

नीतीश कुमार का मानना है कि ऐसे हालात में सरकार को कांग्रेस के सभी संदेहों का निवारण करना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट AFP

सदन में चल रहे शोर-शराबे पर नीतीश कुमार ने कहा, ''सरकार का पहला काम है संसद को चलाना.''

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपनी मुलाकात पर नीतीश कुमार ने कहा, ''यह शिष्टाचार वाली मुलाक़ात थी. मुलाक़ात में किसी ख़ास विषय पर कोई बात नहीं हुई.''

जीएसटी बिल विवाद पर उन्होंने कहा, ''हम जीएसटी बिल का समर्थन करते हैं क्योंकि इससे सभी राज्यों को फ़ायदा होगा.''

बिहार पैकेज पर उन्होंने कहा, ''मुझे उम्मीद है कि केंद्र सरकार प्रधानमंत्री के वादे का सम्मान करेगी. मुझे आशा है कि इसका कार्यान्वयन किया जाएगा.''

इमेज कॉपीरइट Prasghant Ravi

बिहार विधानसभा चुनावों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के बाद अन्य राज्यों में होने वाले चुनावों में उनकी कोई भूमिका होगी या नहीं, इस बारे में पूछे गए सवाल के जबाव में नीतीश कुमार ने कहा, ''मैं चुनाव के बाद बिहार में अपना काम कर रहा हूं. दूसरे राज्यों में दूसरे राजनीतिक दल हैं. वे ही चर्चा करेंगे और इस पर निर्णय लेंगे.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार