यौन उत्पीड़न मामले में तीन शिक्षक निलंबित

  • 13 दिसंबर 2015

छात्राओं के यौन उत्पीड़न के आरोप में कोलकाता के सत्यजीत रे फ़िल्म एंड टेलीविज़न इंस्टीट्यूट (एसआरएफ़टीआई) के तीन शिक्षक निलंबित कर दिए गए हैं.

उनके ख़िलाफ़ मिली मौखिक और लिखित शिकायतों की जांच के लिए संस्थान ने एक आंतरिक जांच समिति बनाई है. संस्थान के डीन नीलोत्पल मजुमदार ने निलंबन की पुष्टि की है.

नीलोत्पल ने बताया, "हम परिसर में शिक्षकों और छात्रों के बीच बेहतर संबंध सुनिश्चित करने का प्रयास करते रहे हैं. इस मामले में शिकायतों के आधार पर कार्रवाई की गई है. तीनों शिक्षकों को पत्र भेजकर जांच जारी रहने तक परिसर में न आने को कहा गया है."

यौन उत्पीड़न की बढ़ती शिकायतों के बाद बनी समिति ने हाल में तमाम छात्राओं के साथ बैठक की थी.

बैठक में शामिल एक छात्रा ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, "हमसे शिक्षकों के ख़िलाफ़ शिकायतों के बारे में पूछा गया और पूरा मामला गोपनीय रखते हुए कार्रवाई का भरोसा दिलाया गया था."

संस्थान में कुल 30 छात्राएं हैं. एक अन्य छात्रा का आरोप है, "अभिनय सिखाने के बाहने कई शिक्षक ग़लत ढंग से शरीर के विभिन्न हिस्सों को छूते हैं. यही नहीं, वे देह और सेक्स से जुड़ी टिप्पणियां भी करते हैं."

बैठक में कई छात्राओं ने कई शिक्षकों की शिकायत की. सबसे ज़्यादा शिकायतें तीन शिक्षकों के ख़िलाफ़ आईं. इसके बाद उनको निलंबित करने का फ़ैसला किया गया.

जांच समिति की प्रमुख पुतुल महमूद कहती हैं, "जांच चल रही है लेकिन संस्थान को अपनी रिपोर्ट सौंपने से पहले मैं इस मामले में कोई टिप्पणी नहीं कर सकती."

छात्राओं का आरोप है कि संस्थान परिसर उनके लिए सुरक्षित नहीं है. कई शिक्षक भी छात्रों को छेड़छाड़ के लिए उकसाते रहते हैं.

बीते दिनों परिसर में एक पार्टी के दौरान एक छात्र ने एक छात्रा को जबरन चूम लिया था.

इसी तरह एक छात्र ने अपने फ़ेसबुक पेज पर एक छात्रा की तस्वीर डाल दी थी. एक छात्रा ने बताया, "ऐसे मामलों में शिक्षक भी छात्रों का ही साथ देते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार