धर्मशाला टी20 भी सुरक्षा मंज़ूरी के बाद ही: पीसीबी

  • 14 दिसंबर 2015
इमेज कॉपीरइट AP

भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सिरीज़ के लिए भारत सरकार से मंजूरी नहीं मिलने के बाद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने निराशा ज़ाहिर की है.

पीसीबी के प्रमुख शहरयार ख़ान ने कहा कि भारत-पाकिस्तान के साथ सिरीज़ की तमाम उम्मीदें ख़त्म हो गईं हैं. दरअसल पीसीबी को शनिवार की शाम तक भारतीय क्रिकेट बोर्ड से इस सिरीज़ के आयोजन पर जवाब मिलने की संभावना है.

शहरयार ख़ान ने कहा, "हमने साथ में खेलने की तमाम कोशिशें कीं और आयोजन स्थल को यूएई से हटाकर श्रीलंका कर दिया है. हमारी कोशिशें बेकार साबित हुईं और इससे दुनिया भर के क्रिकेट प्रेमियों का दिल टूटा है."

पीसीबी के अध्यक्ष ने कहा है कि इस मुद्दे को वो इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल के सामने उठाने पर विचार कर रहे हैं.

इतना ही नहीं शहरयार ख़ान की एक टिप्पणी से वर्ल्ड टी20 टूर्नामेंट में भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले मुक़ाबले पर भी सवालिया निशान लग गया है.

इमेज कॉपीरइट AP

पीसीबी प्रमुख ने कहा कि वर्ल्ड टी20 के लिए पाकिस्तान की टीम को भारत भेजने पर वो पाकिस्तान सरकार से सुरक्षा संबंधित मंजूरी मिलने के बाद ही फ़ैसला कर पाएंगे.

इससे एक आशंका ये भी पैदा हो गई है कि क्या पाकिस्तान भारत के साथ वर्ल्ड टी20 मुक़ाबले का बॉयकॉट करेगा? भारत और पाकिस्तान के बीच धर्मशाला में वर्ल्ड टी20 का मैच 19 मार्च को होना है.

हालांकि पाकिस्तान के कई पूर्व क्रिकेटरों ने पीसीबी से अपील की है कि वे वर्ल्ड टी20 के बॉयकॉट के बारे में नहीं सोचें.

इमेज कॉपीरइट Getty

वसीम अकरम ने कराची में एक इवेंट में कहा, "वर्ल्ड टी20 में नहीं खेलने से हमारे क्रिकेट और खिलाड़ियों पर असर होगा. अगर भारत हमारे साथ खेलना नहीं चाहता, तो ठीक है, हम भी चाहे उनके साथ न खेलें. लेकिन हम मैच खेलें या न खेंले, इससे आतंकवाद की समस्या तो ख़त्म नहीं होगी."

पाकिस्तानी क्रिकेटर यूनिस ख़ान ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच नियमित क्रिकेट मैचों के आयोजन पर कोशिश होनी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार