'निर्भया' की मां से बीबीसी हिंदी की बातचीत

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

बीबीसी हिंदी से बातचीत में ‘निर्भया’ की मां आशा देवी ने कहा है कि उनकी बेटी को सच्ची श्रद्धांजली तभी मिलेगी जब मुजरिमों को फांसी लग जाएगी.

दिल्ली में चलती बस में एक छात्रा के साथ हिंसक गैंगरेप की घटना के तीन साल पूरे होने पर आशा देवी ने कहा कि “क्राइम के लिए उम्र नहीं, सज़ा के लिए उम्र देखते हैं.”

सितंबर 2013 को अदालत ने मुकेश सिंह, विनय शर्मा, अक्षय ठाकुर, पवन गुप्ता को गैंगरेप के लिए दोषी पाया था और उन्हें मौत की सज़ा सुनाई थी.

अभियुक्त बस ड्राइवर राम सिंह जेल में मृत पाया गया था.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption 'निर्भया' की मौत के बाद दिल्ली में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हुए थे

घटना के बाद दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में प्रदर्शन हुए थे.

इस घटना में दोषी पाए गए नाबालिकग की सुधार गृह से रिहाई को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है लेकिन रिपोर्टों के मुताबिक उसे एक एनजीओ को सौंपा जा सकता है.

इस पर आशा देवी ने कहा, “अगर एक मुजरिम को बचाना होता है तो पूरी कायनात लग जाती है कि फांसी नहीं होनी चाहिए, उनको सज़ा नहीं होनी चाहिए और अगर एक बच्ची रोड पर पड़ी रहती है, चिल्लाती है बचाने के लिए तो कोई सुनता ही नहीं है.”

बीबीसी से इस बातचीत में आशा देवी ने बीते तीन सालों के कुछ मुश्किल पलों को याद किया. साथ ही उन्होंने घटना के बच्चों पर पड़े प्रभाव पर भी बात की.

इस बातचीत को आप बीबीसी हिंदी के यूट्यूब चैनल पर मंगलवार को देख सकते हैं.

और अगर आप इस बातचीत के हिस्सों को पढ़ना चाहें तो आइए bbchindi.com पर.

साथ ही बातचीत के हिस्सों को आप बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पेज पर भी देख सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)