पीएम के ख़िलाफ़ अपशब्द ठीक नहीं: शिवसेना

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि उनके दफ़्तर पर मंगलवार को सीबीआई ने छापा मारा.

सीबीआई ने केजरीवाल के इस आरोप से इनकार करते हुए कहा कि छापा मुख्यमंत्री के दफ़्तर पर नहीं बल्कि उनके प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार के ऑफ़िस पर डाला गया है.

देखिए क्या कहा आप नेता आशुतोष ने

जहां एक तरफ़ आम आदमी पार्टी और भाजपा एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं वहीं दूसरी तरफ़ इस घटना के बाद राजनीति गरमा गई है और कई दलों ने इसकी कड़ी निंदा की है.

छापे से ग़ुस्साए केजरी ने कहा- मोदी कायर

तृणमूल कांग्रसे ने राज्य सभा में ये मुद्दा ज़ोर-शोर से उठाया.

इमेज कॉपीरइट PTI

तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन ने राज्यसभा में कहा, "दिल्ली के मुख्यमंत्री कार्यालय पर सीबीआई छापा आधुनिक भारत के इतिहास की एक अभूतपूर्व घटना है. यह एक अघोषित इमरजेंसी है."

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केजरीवाल का समर्थन करते हुए ट्वीट किया, ''एक मुख्यमंत्री का दफ़्तर सील करना अभूतपूर्व है. मैं चकित हूं.''

जनता दल-यू के अध्यक्ष शरद यादव ने कहा कि अगर मामला प्रधान सचिव के भ्रष्टाचार का था तो छापेमारी से पहले सीबीआई को मुख्यमंत्री को विश्वास में लेना चाहिए था. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का दफ़्तर सील करना बिल्कुल ग़ैर-वाजिब बात है.

असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने थोड़ी सधी हुई प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ''ऐसा नहीं कि सीबीआई को छापेमारी का अधिकार नहीं लेकिन ऐसा करने का एक तरीक़ा होता है.''

लेकिन शिवसेना ने इस मामले में बीजेपी और मोदी का समर्थन किया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, "सीबीआई के ग़लत इस्तेमाल के आरोप सभी पार्टियों पर लगे हैं. लेकिन सीएम केजरीवाल को धैर्य रखना चाहिए. देश के प्रधानमंत्री के ख़िलाफ़ अपशब्द इस्तेमाल करना ठीक नहीं है."

सीबीआई छापे के बाद केजरीवाल ने ट्वीट किया था, ''मोदी कायर और मनोरोगी हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार