गूगल भारत में प्रोजेक्ट लून लाएगा

  • 17 दिसंबर 2015
सुंदर पिचाई इमेज कॉपीरइट BBC CAPITAL

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने कहा है,"चूंकि भारत मोबाइल क्रांति की दहलीज़ पर है, तो जो हम भारत में बनाएंगे, वह दुनिया की कई जगहों पर लागू होगा."

सीईओ बनने के बाद सुंदर पिचाई की अमरीका के बाहर यह पहली यात्रा है.

पिचाई ने कहा कि भारत में गूगल जो घोषणाएं करेगा, उनकी दुनिया में भी अहमियत होगी क्योंकि भारत उनके लिए कई ग्लोबल उत्पादों का परीक्षणस्थल भी है.

इमेज कॉपीरइट Google

गूगल ने घोषणा की है कि वो अपना महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट लून भारत में लाएगा, जिसके तहत दूरदराज़ के इलाक़ों में डेटा भेजने के लिए इंटरनेट बीमिंग और गुब्बारों का इस्तेमाल होगा. गूगल के मुताबिक़ पृथ्वी से 60 हज़ार फीट की ऊंचाई पर तैरते ये गुब्बारे ग्रामीण इलाक़ों के लिए लगभग सेल टावर्स का काम कर सकते हैं.

भारत सरकार इस पर सहमत है और बीएसएनएल गूगल के साथ इस पर साझेदारी करेगी.

भारत के आईटी मंत्री रविशंकर ने पहले संसद में कहा था कि सरकार ने प्रोजेक्ट लून को ख़ारिज कर दिया है. अब उन्होंने कहा है कि सैद्धांतिक तौर पर सरकार इससे सहमत है. सुरक्षा से जुड़े कुछ मुद्दों पर बातचीत की जाएगी.

इमेज कॉपीरइट Getty

गूगल सरकारी रेलटेल कॉर्प की साझेदारी में देश के 400 स्टेशनों पर फ़्री वाईफाई नेटवर्क बनाएगा. एक करोड़ यूज़र्स वाला ये नेटवर्क सबसे बड़ा सार्वजनिक नेटवर्क होगा.

2016 तक भारत गूगल का सबसे बड़ा बाज़ार होगा. उम्मीद की जा रही है कि 2016 तक भारत में एंड्रॉयड यूज़र्स की तादाद अमरीका से भी ज़्यादा होगी.

इसके साथ ही गूगल एक नई ऐप पर भी काम कर रहा है, जिसकी मदद से सिर्फ़ विदेशी टेक्स्ट को हाइलाइट करने पर उसका अनुवाद आपकी अपनी भाषा में हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट google

सुंदर पिचाई के मुताबिक़ भारत को गूगल के मैप मेकर जैसे कई वैश्विक उत्पादों के लिए परीक्षण स्थल की तरह देखा जा रहा है.

पिचाई ने कहा कि गूगल हैदराबाद में अपना नया कार्यालय खोलेगा और देश में इंजीनियरिंग में निवेश को बढ़ाएगा. मतलब ये कि बैंगलुरु और हैदराबाद में नौकरी के नए अवसर भी होंगे.

पिचाई ने कहा कि गूगल एक हज़ार स्टार्टअप उद्योगों यानी नए उद्योगों में निवेश करेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार