छेड़खानी रुकवाने के लिए राज्यपाल से मांग

कालीकट विश्वविद्यालय इमेज कॉपीरइट PFA

कालिकट यूनिवर्सिटी की 141 छात्राओं ने शिक्षा मंत्री, केरल के मुख्य न्यायाधीश, गवर्नर और यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति को पत्र लिखकर छेड़खानी की शिकायत की है.

छात्राओं ने अपन पत्र में यूनिवर्सिटी परिसर के अंदर यौन हिंसा किए जाने की शिकायत की है.

छात्राओं ने पत्र में कहा है कि यूनिवर्सिटी से बाहर के असमाजिक तत्व यूनिवर्सिटी परिसर में घुसकर छात्राओं को तंग करते हैं.

एक छात्रा अनुपमा ने कहा, "अब बाहरी लोग हमें धमकी भी देने लगे हैं जिससे परिसर में हमारा घूमना मुश्किल हो गया है. हमारी शिकायत बाहरी लोगों से है ना कि यूनिवर्सिटी के पुरुष छात्रों से."

इमेज कॉपीरइट PFA
Image caption कालीकट विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर के मोहम्मद बशीर का कहना है कि शिकायत गंभीर है.

उन्होंने यह भी कहा कि छात्राएं पहले भी कई बार इसकी शिकायत यूनिवर्सिटी प्रशासन से कर चुकी हैं लेकिन कोई ठोस क़दम नहीं उठाया गया है.

उन्होंने कहा, "इसी वजह से हमें मंत्री, केरल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश, राज्यपाल और वाइस चांसरल को पत्र लिखना पड़ा है. हमने इस मुद्दे को लेकर हस्ताक्षर अभियान भी शुरू कर रहे हैं. बाहरी लोगों का परिसर में घुसना बंद किया जाना चाहिए."

यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉक्टर मोहम्मद बशीर का कहना है कि आरोप संगीन है और इससे निपटने के लिए क़दम उठाए जाएंगे.

उन्होंने कहा, "परिसर में आने वाले सभी लोगों की निगरानी और अधिक सुरक्षा कर्मी तैनात करने का फ़ैसला लिया गया है."

इमेज कॉपीरइट PFA
Image caption केरल के राज्यपाल पी सदाशिवम को भी छात्राओं ने पत्र लिखा है.

उन्होंने छात्राओं के हॉस्टल के बाहर नया गेट लगाने के आदेश भी दिए हैं.

इसी बीच यूनिवर्सिटी की महिला शिकायत समिति और रैगिंग रोधी समिति को भी मामले की जाँच के आदेश दिए गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार