15 साल के बच्चे ने अपराध किया तो फिर उम्र घटाएंगे?

  • 23 दिसंबर 2015
इमेज कॉपीरइट Getty

जुवेनाइल जस्टिस बिल से मैं कतई सहमत नहीं हूँ.

2002 में 'जुवेनाइल जस्टिस केयर एंड प्रोटेक्शन एक्ट' पास हुआ था. यह एक्ट अंतरराष्ट्रीय मानकों के हिसाब से था. और इसमें ‘यूएन कन्वेंशन ऑन चाइल्ड राइट्स’ का ध्यान रखा गया था.

भारत समेत दुनिया भर के क़रीब 190 देशों ने ‘यूएन कन्वेंशन ऑन चाइल्ड राइट्स’ पर हस्ताक्षर किए हैं.

तब इसी सरकार ने जुवेनाइल के लिए 'कट ऑफ़ डेट' यानी अधिकतम उम्र सीमा 16 से 18 साल की थी.

अब इसे वापस 16 साल कर दिया गया है. हालांकि हत्या और बलात्कार से जुड़े 'जघन्य' अपराधों के मामले में जुवेनाइल के लिए कट ऑफ़ डेट 16 साल रखी गई है.

इमेज कॉपीरइट sumit daya

मेरे हिसाब से मौजूदा क़ानून सोच-समझकर नहीं बनाया गया है क्योंकि जहां तक बच्चों का सवाल है, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई शोध हुए हैं.

उनके अनुसार 18 साल एकदम सही 'कट ऑफ़ पीरियड' है. जुवेनाइल की उम्र को उससे कम करना भारत के लिए उल्टा क़दम है.

यह ख़ास संशोधन या क़ानून गंभीर रूप से प्रतिगामी है क्योंकि आप बच्चों को सुधारने के बजाय उन्हें वयस्क की तरह सज़ा देंगे.

बहुत दुख की बात है कि यह क़ानून पास हो गया है.

भले जघन्य अपराध के लिए उम्र की सीमा अलग रखी गई है लेकिन इसकी कोई ज़रूरत नहीं थी.

16 दिसंबर को हुए बर्बर बलात्कार और फिर हत्या बेहद दुखद घटना है लेकिन केवल एक मामले को देखकर आप क़ानून नहीं बदल सकते, भले ही वह मामला बेहद गंभीर क्यों न हो.

अब अगर कल कोई ऐसा मामला आया, जिसमें 15 साल के बच्चे ने कोई अपराध किया तो क्या उम्र को और घटाया जाएगा. इसकी तो कोई सीमा ही नहीं है.

इमेज कॉपीरइट AFP

अंतरराष्ट्रीय बाल अधिकार विशेषज्ञों भी मानते हैं कि यह उल्टा क़दम है. ऐसे लोगों ने भारत में बाल अधिकार के लिए काम करने वाले समूहों और बच्चों की स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ अपराध करने वाले जुवेनाइल और पीड़ितों के साथ काम किया है.

जुवेनाइल जस्टिस क़ानून के दायरे में आने वाले या क़ानून का उल्लंघन करने वाले अधिकतर बच्चे बेहद ग़रीब सामाजिक पृष्ठभूमि से होते हैं.

उनकी परवरिश के समय तो समाज और देश कोई ज़िम्मेदारी नहीं दिखाता और जब वे अपराध करते हैं, तो उन्हें गंभीर सज़ा देने की वकालत की जाती है.

समाज को ऐसे बच्चों की ओर संवेदनशील होना चाहिए. इस तरह बिना सोचे-समझे सज़ा देने से कोई फ़र्क नहीं पड़ेगा.

(बीबीसी संवाददाता वात्सल्य राय से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार