जांच रोकने के लिए जेटली ने लिखे थे पत्र: आप

आम आदमी पार्टी ने कथित डीडीसीए घोटाले में वित्त मंत्री अरुण जेटली पर पुलिस जांच में व्यवधान पहुँचाने और इसमें शामिल लोगों को बचाने का आरोप लगाया है.

पार्टी नेता आशुतोष ने बुधवार को एक प्रेस कांफ़्रेंस कर पत्रकारों को दो चिट्ठियां दिखाईं.

उन्होंने कहा कि ये चिट्ठियां अरुण जेटली ने दिल्ली पुलिस को तब लिखी थीं जब वो राज्यसभा में विपक्ष के नेता थे और इनमें डीडीसीए संबंधी जांच को बंद करने का आग्रह किया गया था.

इमेज कॉपीरइट DDCA

आम आदमी पार्टी डीडीसीए अध्यक्ष के तौर पर अरुण जेटली के कार्यकाल में करोड़ों का घोटाला होने का आरोप लगाती है. जेटली एक दशक से ज़्यादा समय तक डीडीसीए के अध्यक्ष थे और 2013 में इस पद से हटे थे.

हालांकि जेटली सभी आरोपों से इनकार करते हैं और उन्होंने इस मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत आम आदमी पार्टी के कई नेताओं पर मानहानि का मुक़दमा किया है.

'आप' नेता आशुतोष ने 27 अक्टूबर 2012 और 5 मई 2012 को लिखी दो चिट्ठियां दिखाकर फिर जेटली को घेरने की कोशिश की.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने कहा कि राज्यसभा में विपक्ष के नेता के पद पर रहते हुए लिखी गई इन चिट्ठियों से पुलिस जांच में व्यवधान पैदा करने की कोशिश की गई.

आशुतोष ने कहा, "अरुण जेटली जी को संवैधानिक पद पर रहते हुए पद के दुरुपयोग करने, जांच में व्यवधान डालने और भ्रष्टाचारियों को बचाने के कारण पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है."

दिल्ली सरकार ने इस मामले में जांच के लिए एक आयोग बनाया है. लेकिन भारतीय जनता पार्टी जेटली पर लगे सभी आरोपों को बेबुनियाद बताती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार