केजरीवाल के फॉर्मूले को जनता ने कितना माना

केजरीवाल इमेज कॉपीरइट AFP

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया है कि सम विषम नंबर की कार वाले फॉर्मूले का पहला दिन सफल रहा है.

शुक्रवार सुबह केजरीवाल दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री और परिवहन मंत्री के साथ कारपूल करके सचिवालय पहुंचे.

पहली तारीख़ होने की वजह से दिल्ली में शुक्रवार को सिर्फ़ ऑड (विषम) यानी 1,3,5,7 और 9 नंबर पर ख़त्म होने वाली गाड़ियों को ही चलने की अनुमति है.

दिल्ली की सड़कों पर ज्यादातर लोग भी सम-विषम नंबर वाले फॉर्मूले का पालन करते हुए ही दिखे.

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता सड़कों के किनारे हाथ में पोस्टर लिए खड़े थे जिनमें लोगों से इस नियम का पालन करने की अपील की गई थी.

उनके हाथ में गुलाब के फूल भी थे. इस नियम का उल्लंघन करने वाले लोगों को फूल देकर कहा जा रहा था कि आइंदा वो इस नियम का पालन करें.

पूरे शहर में प्रदूषण मीटर लगाए गए हैं. दिल्ली सचिवालय के पास प्रदूषण बेहद ख़तरनाक स्तर पर रहा.

इस दौरान बीजेपी के सांसद सत्यपाल सिंह पर सम नंबर वाली कार चलाने के लिए 2000 रुपए का जुर्माना भी लगाया गया.

Image caption दिल्ली पुलिस भी सड़कों पर कारों के नंबर को लेकर चौकस दिखी

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने ट्वीट करके दिल्ली के लोगों का आभार भी व्यक्त किया और एक न्यूज़ चैनल को दिए गए इंटरव्यू में कहा कि सम-विषम फॉर्मूले को स्थाई रूप से लागू नहीं किया जा सकता.

Image caption दिल्ली के परिवहन मंत्री गोपाल राय

परिवहन मंत्री गोपाल राय ने बस में पूरे शहर में हालात का जायज़ा भी लिया. इस सिलसिले में दिल्ली सरकार ने शाम चार बजे एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया है जिसे परिवहन मंत्री गोपाल राय संबोधित करेंगे.

बीबीसी संवाददाता शिल्पा कानन के मुताबिक, सरकार ने आज सार्वजनिक परिवहन सेवा पर दबाब को कम करने के लिए स्कूलों की छुट्टी रखी थी और कुछ स्कूल बसों के मार्ग में बदलाव भी किए थे.

साल का पहला दिन होने के कारण कुछ दफ्तर आज बंद भी थे. सोमवार को ये स्थिति और स्पष्ट होगी कि सरकार का सम-विषम फॉर्मूला कितना सफल रहेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार