पठानकोटः क्या है यूनाइटेड जिहादी काउंसिल

सैयद सलाहुद्दीन इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption पाकिस्तान स्थित चरमपंथी संगठनों के गठबंधन यूनाइटेड जिहादी काउंसिल के प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन.

पाकिस्तान स्थित चरमपंथी समूह यूनाइटेड जिहाद काउंसिल (यूजेसी) ने सोमवार को दावा किया कि उसके नेशनल हाईवे स्क्वैड ने पठानकोट एयरबेस पर हमला किया था.

यूजेसी प्रवक्ता सैयद सदाकत हुसेन ने प्रेस को जारी ईमेल में ये दावा किया है. चलिए जानते हैं कि ये यूजेसी है क्या.

यूनाइडेट जिहाद काउंसिल कोई चरमपंथी संगठन नहीं बल्कि पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में सक्रिय दर्जन भर से ज़्यादा चरमपंथी संगठनों का गठबंधन है.

इसमें 12 से ज़्यादा चरपमंथी संगठन हैं. इन संगठनों में हिज़बुल मुजाहिदीन, अल-उमर मुजाहिदीन, तहरीक-उल मुजाहिदीन आदि शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट hizbul facebook

यूजेसी में लश्कर-ए-तैयबा या जैश-ए-मोहम्मद जैसे अंतरराष्ट्रीय चरमपंथी संगठन शामिल नहीं हैं. यह कश्मीर के स्थानीय चरमपंथी संगठनों का समूह है.

संगठन के प्रमुख 60 साल के मोहम्मद यूसुफ़ शाह उर्फ सैयद सलाहुद्दीन हैं, जो इलाके के सबसे बड़े और पुराने चरमपंथी संगठन हिज़बुल मुजाहिदीन के भी मुखिया हैं.

कुछ दिन पहले जब भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाहौर में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ से मुलाक़ात की थी तो यूजेसी ने एक बयान जारी कर इस पर ऐतराज़ जताया था.

यूजेसी का कहना था कि पाकिस्तान को भारत से व्यापारिक संबंध बढ़ाने से पहले सोचना होगा कि कश्मीर का मुद्दा हल होता है या नहीं.

इमेज कॉपीरइट AFP

अब पठानकोट में हुए इस हमले से साफ़ हो गया है कि पाकिस्तान में स्थित चरमपंथी संगठनों के नेताओं को भरोसे में लेने में पाकिस्तान सरकार कामयाब नहीं हो सकी है.

वैसे यह पहला मौक़ा है कि यूनाइटेड जिहाद काउंसिल ने बतौर गठबंधन किसी हमले को अंजाम दिया है. इससे पहले अधिकतर हमले या तो अल-अमर मुजाहिदीन ने किए हैं या हिज़बुल मुज़ाहिदीन ने.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार