पठानकोट हमला: रक्षामंत्री ने मानी चूक

नवाज़ शरीफ़, नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फ़ोन कर पठानकोट हमले पर दुख जताया.

साथ ही नवाज़ शरीफ़ ने घटना के मद्देनज़र भारत सरकार के बयान और रवैये की तारीफ़ की और इसे परिपक्व क़रार दिया.

नवाज़ शरीफ़ ने नरेंद्र मोदी को भरोसा दिलाया कि भारत सरकार की दी गई सूचना और सुरागों पर पाकिस्तान भी काम करेगा और जांच में हर संभल मदद करेगा.

नवाज़ शरीफ़ ने कहा, "जब भी भारत और पाकिस्तान के बीच शांति प्रक्रिया शुरू होती है तो चरमपंथी उसमें मुश्किल पैदा करने की कोशिश करते हैं."

लेकिन दोनों ही प्रधानमंत्रियों ने इस बात पर सहमति जताई कि चरमपंथी ताक़तों को दोनों देशों के बीच शांति बहाल करके ही मुंहतोड़ जवाब दिया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट AP

इससे पहले भारत के रक्षा मंत्री मनोहर परिक्कर ने माना कि पठानकोट एयरबेस में हुआ हमला चिंता का विषय है.

मीडिया से बात करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा, "हमारी मुख्य चिंता ये है कि चरमपंथी आख़िर सीमा पार कर अंदर कैसे घुस आए. हालांकि सुरक्षा बल बड़ी मुस्तैदी से इस हमले से निपटे लेकिन कुछ कमियां हमें इस पूरे मामले में नज़र आईं. हम भविष्य में उन्हें दुरुस्त करेंगे."

मनोहर परिक्कर ने बताया कि आज दो और चरमपंथियों के शव मिले हैं और कुल मिलाकर अब तक छह चरमपंथी इस हमले में मारे जा चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

हालांकि उन्होंने ये भी कहा आज मिले दो शव पूरी तरह से जल चुके हैं और उनकी डीएनए जांच के बाद ही उनकी पहचान हो सकेगी.

रक्षा मंत्री के मुताबिक़ तलाशी अभियान अब भी जारी है और वो आज देर रात या कल सुबह तक और चल सकता है.

उन्होंने बताया कि इस पूरे मामले की जांच एनआईए (नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी) करेगा.

इमेज कॉपीरइट EPA

मनोहर परिक्कर ने बताया कि तलाशी अभियान के दौरान पाकिस्तान में बनी कुछ चीज़ें भी बरामद हुई हैं लेकिन उनके आधार पर अभी किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता.

उनके मुताबिक़ चरमपंथियों और सुरक्षा बलों का एकाउंटर 36 घंटे ही चला और बाक़ी टाइम तलाशी अभियान जारी रहा.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार