पठानकोट: क्या ख़राब थी भारत की प्लानिंग?

  • 5 जनवरी 2016
पठानकोट हमले के विरोध में प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पठानकोट में हमले के विरोध में प्रदर्शन

पठानकोट हमले में पहले ही झटके में डिफ़ेंस सिक्योरिटी कोर के पांच जवानों के मारे जाने से यह साफ़ हो जाता है कि सुरक्षा बल न तो ऐसे हमले के लिए तैयार थे और न ही उनका ऐसा प्रशिक्षण है.

दूसरी बात यह है कि हमले की शुरुआत में ही इस हमले का जवाब देने के लिए जितने फौजी लगाए जाने चाहिए थे उतने नहीं लगाए गए.

पठानकोट क्षेत्र में ही 50,000 से अधिक फौजियों की तैनाती है जिनमें से कई पलटनों की कश्मीर में तैनाती रही है. लेकिन एयरफ़ोर्स स्टेशन पर बहुत कम, मात्र 50-60 फौजियों की ही तैनाती की गई.

इमेज कॉपीरइट Getty

कहा जा सकता है कि इस पूरे ऑपरेशन की प्लानिंग बहुत ख़राब थी.

सुरक्षा बल को अंदाज़ा ही नहीं था कि 25-26 किलोमीटर बड़े क्षेत्र को संभालने के लिए उन्हें कितने संसाधनों की आवश्यकता होगी.

सबसे हैरत की बात यह है कि पठानकोट में ऐसी हालत से निपटने के लिए कोई योजना नहीं बनाई गई थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

ऐसे में भारत में किसी को इस पर हैरानी नहीं होनी चाहिए कि चरमपंथी कभी भी कहीं से भी हमला कर सकते हैं, वह भी ऐसी जगह पर जहां सेना तैनात है.

पठानकोट में ऐसी कोई योजना नहीं बनाई गई थी कि अगर ऐसा कोई हमला हो तो फौज कैसे प्रतिक्रिया करेगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

जबकि इस बार पहले से सूचना थी फिर भी आखिरी वक्त में सारी योजना बनाई गई, सारी तैयारी की गई.

इसके अलावा ये भी मतभेद था कि कौन कमांड करेगा, कौन नहीं. भारत में हम सालों से ऐसे ही भ्रम में जी रहे हैं.

मुझे बहुत हैरानी होती है कि इस बात की पहले से जानकारी होने के बावजूद कि वहां ऐसे हमले हो सकते हैं, कोई तैयारी नहीं की गई थी, कोई प्लान नहीं बनाए गए थे.

इमेज कॉपीरइट

साल 2008 के मुंबई हमलों के बाद यह उम्मीद थी कि भारत के सुरक्षा इंतज़ामों में बड़े सुधार आएंगे लेकिन अफ़सोस ऐसा नहीं हुआ.

किसी भी चरमपंथी हमले के मौके पर सबसे पहले प्रतिक्रिया देने के लिए जो सुरक्षाकर्मी मौजूद होते हैं उन्हीं को स्थिति संभालनी होती है.

अाज भी उनके प्रशिक्षण, उनकी तैयारी में कोई विशेष अंतर नहीं आया है.

इमेज कॉपीरइट

पंजाब की स्पेशल फ़ोर्सेस का हाल अभी गुरदासपुर में दिखा था. वहां भी मुठभेड़ कई घंटे चली थी और कई पुलिसकर्मी मारे गए थे.

और यह कहते हुए दुख होता है कि अगर भारत के किसी शहर में फिर 26-11 के हालात बने तो नतीजा बहुत अलग नहीं होगा.

(बीबीसी संवाददाता अशोक कुमार से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार