'15 तारीख में आठ दिन हैं, देखिए क्या होता है'

  • 7 जनवरी 2016
इमेज कॉपीरइट AFP

पठानकोट हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच विदेश सचिव स्तर की बातचीत होगी या नहीं, इसे लेकर भ्रम बना हुआ है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने गुरुवार को कहा, ''अभी हम लोग सात तारीख में हैं. 15 तारीख अभी आठ दिन दूर है. हम देखते हैं कि आज से तब के बीच क्या होता है. आप भी देखिएगा क्या होता है.''

भारत सरकार ने कहा है कि हमने पाकिस्तान को चरमपंथियों पर कार्रवाई के लिए कोई समय सीमा नहीं दी है लेकिन हम उनसे जल्द कार्रवाई की उम्मीद रखते हैं.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत में यह बात कही.

उनका कहना था, ''जहां तक हमारा सवाल है कि अब गेंद पाकिस्तान के पाले में है. पहला मुद्दा चरमपंथी हमला है जिस पर कार्रवाई के लिए हमने पाकिस्तान को कार्रवाई लायक ख़ुफ़िया सूचनाएं (एक्शनेबल इंटेलिजेंस) दे दी है.''

इमेज कॉपीरइट TV IMAGE

विदेश मंत्रालय प्रवक्ता के मुताबिक़ भारत हमेशा से मानता आया है कि भारत चरमपंथ पर बातचीत चाहता है और भारत की पाकिस्तान नीति हमेशा की तरह स्पष्ट है.

उन्होंने कहा, "भारत, पाकिस्तान सहित अपने सभी पड़ोसी देशों के साथ दोस्ताना रिश्ते चाहता है. हमने पाकिस्तान के साथ दोस्ती का हाथ बढ़ाया है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि हम सीमा पार से हमले बर्दाश्त करने को तैयार हैं."

इमेज कॉपीरइट EPA

विकास स्वरूप के मुताबिक़, ''हमारी बातचीत इसलिए शुरू हुई क्योंकि बैंकॉक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों ने जो बैठक की थी, उसमें उन्होंने आतंकवाद से जुड़े सभी विषयों पर और नियंत्रण रेखा से जुड़े मुद्दों पर अच्छी चर्चा की थी.''

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का कहना था, ''पठानकोट पर हमले के बाद फिर उसी पर फ़ोकस हो गया है. अब पहल पाकिस्तान को करनी है. हमने एक्शनेबल इंटेलिजेंस दे दी है और देखना है कि वह क्या फ़ैसला लेता है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार