'विदेश सचिव स्तर की बातचीत 15 को'

इमेज कॉपीरइट EPA

पाकिस्तान ने कहा है कि भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिव स्तर की बातचीत 15 जनवरी को होगी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ पठानकोट हमले के बाद बने अनिश्चितता के माहौल में पहली बार इस मुद्दे को लेकर पाकिस्तान ने यह बात कही है.

संसद में एक सवाल के जवाब में विदेश मामलों में प्रधानमंत्री के सलाहकार सरताज अज़ीज़ ने यह बात कही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

अज़ीज़ ने कहा है कि दोनों विदेश सचिव हाल ही में तय किए गए 'कॉम्प्रिहेंसिव बायलेटरल डायलॉग' के तहत होने वाली बैठकों के लिए समय तय करेंगे.

उनका यह भी कहना था कि दूसरे मुद्दों के अलावा कश्मीर भी इस बातचीत का हिस्सा होगा.

अज़ीज़ ने यह बात पाकिस्तान की तहरीके इंसाफ़ पार्टी की शीरीन मज़ारी के सवाल पर कही.

इमेज कॉपीरइट indianembassy

इससे पहले भारत ने पठानकोट हमले को विदेश सचिव स्तर की बातचीत से जोड़ते हुए कहा है कि पाकिस्तान को 'तुरंत और निर्णायक' क़दम उठाना होगा, जिसे लेकर भारत ने पाकिस्तान को कार्रवाई लायक ख़ुफ़िया सूचनाएं उपलब्ध करा दी हैं.

इसके बाद से विदेश सचिव स्तर की बातचीत को लेकर भ्रम की स्थिति बनी हुई है.

इससे पहले पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख़्वाजा मोहम्मद आसिफ़ ने कहा है कि किसी भी चरमपंथी गुट को भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत में अड़चन नहीं डालने दी जाएगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ उन्होंने रेडियो पाकिस्तान से कहा है कि कुछ तत्व चरमपंथी हमले करके दोनों देशों की बीच बातचीत की प्रक्रिया में रुकावट डालने पर आमादा हैं, पर उन्हें किसी सूरत में अपने मंसूबों में कामयाब नहीं होने दिया जाएगा.

उन्होंने साफ़ किया कि पाकिस्तान हर किस्म के चरमपंथ के ख़िलाफ़ है क्योंकि यह मानवता का दुश्मन है.

उनका यह बयान बीते हफ़्ते भारत के पठानकोट एयरबेस पर हुए चरमपंथी हमले के बाद आया है.

आसिफ़ ने एक पाकिस्तान टीवी चैनल से यह भी कहा, "कुछ चरमपंथी गुटों को नेस्तनाबूद किया जा चुका है, जो बचे हुए हैं उनसे कड़ाई से निपटा जाएगा. उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई चल रही है."

इमेज कॉपीरइट AP

समाचार एजेंसी पीटीआई ने यह ख़बर भी दी कि अमरीका चाहता है कि चरमपंथियों से कड़ाई से निपटने के अपने वायदे को अब पाकिस्तान पूरा करे. वॉशिंगटन चाहता है कि चरमपंथियों से निपटने में किसी तरह का भेदभाव न किया जाए और पठानकोट कांड से जुड़े लोगों को हर हाल में सज़ा दिलाई जाए.

समाचार एजेंसी ने अमरीकी विदेश मंत्रालय के अधिकारी के हवाले से कहा है, "पाकिस्तान ने कहा है कि वह पूरे कांड की जांच करेगा. हम चाहते हैं कि दोषियों को निश्चित तौर पर सज़ा मिले."

उस अधिकारी ने यह भी कहा कि अमरीका चाहता है कि पाकिस्तान सरकार को अपना काम करने के लिए मोहलत दी जाए और वह अपने वायदा पूरा करे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार