जो बोले सो निहाल और उस पार सत श्री अकाल

  • 11 जनवरी 2016
इमेज कॉपीरइट PTI

अमरजीत सिंह 2005 में भर्ती हुए और तीन दिन पहले उन्होंने शाम का सूरज डूबते डूबते वाघा अटारी बॉर्डर पर गड़ा गेट ज़ोर से बंद करके झंडा उतारा और बीएसएफ़ के एक जवान की आंखों में आंखें डालकर धम्म से ज़मीन पर एड़ियां बजाईं तो सीमा के आर-पार खड़े सैकड़ों तमाशाईयों ने ज़ोर-ज़ोर से स्वागती तालियां बजाईं.

इस रस्म से पहले अमरजीत सिंह ने बीएसएफ़ के जवानों से भी हाथ मिलाया.

अमरजीत का जन्म ननकाना साहिब में हुआ. बचपन से सपना था कि फ़ौज में जाएं. अमरजीत पाकिस्तानी फ़ौज में दाख़िल होने वाले पहले सिख हैं.

दुनिया के हर फ़ौजी की तरह ही अमरजीत सिंह का भी एक ही जवाब है कि उन्हें अपनी सेना पर नाज़ है और वह वतन की आन पर जान क़ुर्बान के लिए हरदम तैयार हैं.

इमेज कॉपीरइट wusat

मुझे आज तक कोई नहीं बता सका कि वाघा-अटारी बॉर्डर पर ये चलन कब शुरू हुआ कि सुबह गेट तो शांत तरीक़े से बीगल की आवाज़ के साथ खुलेगा, लेकिन शाम को जब यही गेट बंद होगा तो दो चौड़े सीने वाले जवान उस तरफ़ और दो कड़ियल जवान एक दूसरे को ऐसे घूरते हुए गेट बंद करेंगे जैसे अब ये कभी नहीं खुलेगा.

मगर इतनी घूरम-घारी के बाद भी गेट हर सुबह खुलता है. इस गेट ने अब तक दो बड़ी जंगें देखी हैं. ये कई बार बदला भी गया है.

एड़ी बजाने वाले कई जवानों के घुटने भी बेकार हुए. कई बार ये प्रस्ताव भी रखा गया कि सुबह और शाम की इस रस्म में से धरती को एड़ियों से हिलाने का जोखिम हटा दिया जाए ताकि जवानों की सेहत ठीक रहे और धरती मां को भी थोड़ा आराम मिले.

इमेज कॉपीरइट RAVINDER SINGH ROBIN

मगर फिर ये होश वाला प्रस्ताव जोश के एड़ियों तले दबके रह जाता है. मैं जब-जब वाघा अटारी गेट पर झंडा चढ़ाने और उतारने का मंज़र देखने जाता हूं तो एक वाक़या हमेशा याद आ जाता है.

हुआ यूं कि गोल्डन टेंपल से बाहर निकलते ही मैंने एक रिक्शा चालक सरदार को हाथ दिया. उसने पूछा, “कित्थे.”

मैंने कहा- लाहौर. तो सरदार ने कहा, “फ़ौरन पीछे बैठ जाओ. अटारी का गेट बंद होने वाला है. तुम्हें लाहौर उतारकर मैं अपना गुजरावालां भी देखकर वापस आ जाऊंगा.”

इमेज कॉपीरइट RAVINDER SINGH ROBIN

शनिवार को जब मैंने ये ख़बर पढ़ी कि पाकिस्तानी रेंजर्स के अमरजीत सिंह अब वाघा बॉर्डर पर ड्यूटी दे रहे हैं तो ये फ़िज़ूल सा ख़्याल भी मन में आया कि कल ख़ुदा ना करे कि जंग हो जाती है और अमरजीत पाकिस्तान की तरफ़ और कृपाल सिंह भारत की तरफ़ से वतन की आन बचाने के लिए पुर्जा पुर्जा कट मराई कबहू ना छंटाई खेत का ग्रंथी का नारा लगाते हुए एक दूसरे की तरफ़ दौड़ पड़ें तो जीत किसकी होगी?

जो बोले सो निहाल की या सत श्री अकाल की?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार