रोहित की आत्महत्या पर सोशल मीडिया में ग़ुस्सा

  • 19 जनवरी 2016
रोहित वेमुला इमेज कॉपीरइट

हैदराबाद के दलित छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या पर सोशल मीडिया में कड़ी प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.

जहां बड़ी संख्या में लोग इस घटना के लिए जातिवाद और यूनिवर्सिटी प्रशासन को ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं. वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो कह रहे हैं कि ये मामला सिर्फ़ और सिर्फ़ एक छात्र के अवसाद का है.

रोहित की ख़ुदकुशी के मामले में हैदराबाद के गच्चीबाउली पुलिस थाने में एक केस भी दर्ज किया गया है. इसमें केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय, यूनिवर्सिटी के कुलपति और कुछ अन्य लोगों पर आरोप लगाए गए हैं.

दत्तात्रेय ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को चिट्ठी लिखकर दलित छात्रों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग की थी.

इमेज कॉपीरइट ARATHI PM

आरती पीएम फ़ेसबुक पर लिखती हैं- ये एक संस्थानिक हत्या है.

आरती ने रोहित की वो चिट्ठी भी लगाई है जिसमें उन्होंने कुलपति से मांग की थी कि हर दलित बच्चे को ज़हर दिया जाए ताकि वो जब चाहे मर सकें.

इमेज कॉपीरइट JITENDRA NARAYAN

जितेंद्र नारायण लिखते हैं कि रोहित वेमुला की चिता से उठने वाली ये आग झूठ और षड्यंत्र पर आधारित खूंखार जातिवादी सत्ता और आधिपत्य को जलाकर एक दिन इसी तरह राख कर देगी.

हालांकि कुछ लोग रोहित की आलोचना भी कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट SUMAN RAMAWAT

सुमन रमावत लिखती हैं, "रोहित वेमुला हैदराबाद यूनिवर्सिटी में पढ़ता था, जहां वामपंथी और मुस्लिम नेताओं ने दलित छात्रों को अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने का माध्यम बना रखा था. रोहित यूनिवर्सिटी में गोमांस भोज करने में सबसे आगे था जबकि उसके पीछे दिमाग़ ओवैसी का था.''

अभिषेक रंजन चार अगस्त का एक लिंक शेयर करते हुए कहते हैं कि ये वही रोहित है जिसने एबीवीपी के एक छात्र पर जानलेवा हमला किया था.

इमेज कॉपीरइट SATYA SINGH

हालांकि सत्य सिंह कहते हैं कि देश की जितनी आबादी रोहित वेमुला की आत्महत्या के बाद उसके साथ है, उसका एक छोटा सा हिस्सा भी अगर पहले उसके साथ होती तो ये नौबत नहीं आती.

इमेज कॉपीरइट SURENDRAN

इस तरह की प्रतिक्रियाओं से साफ़ है कि रोहित की आत्महत्या को हर व्यक्ति अपने हिसाब से देखने में लगा है लेकिन इस बीच सबसे मारक है, वह है अंग्रेज़ी अख़बार 'दी हिंदू' में छपा सुरेंद्रन का कार्टून.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार