बसपा विधायक की हत्या की जांच सीबीआई को

  • 22 जनवरी 2016
सीबीआई के अधिकारी (फ़ाइल फ़ोटो) इमेज कॉपीरइट PTI

सुप्रीम कोर्ट ने बसपा विधायक राजू पाल हत्याकांड की जांच केंद्रीय जाँच ब्यूरो यानी सीबीआई को सौंप दी है.

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को राजू पाल की विधायक पत्नी पूजा पाल की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फ़ैसला सुनाया.

क़रीब 11 साल पहले इलाहाबाद पश्चिम के विधायक राजू पाल की 25 जनवरी 2005 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. अभी इस मामले की जांच उत्तर प्रदेश पुलिस की सीबीसीआईडी कर रही थी.

इस मामले में समाजवादी पार्टी के तत्कालीन सांसद अतीक अहमद और उनके भाई मोहम्मद अशरफ़ को मुख्य अभियुक्त बनाया गया है.

अतीक अहमद की पहचान एक बाहुबली नेता के तौर पर होती है. उनके ख़िलाफ़ कई आपराधिक मामले दर्ज हैं.

अतीक इलाहाबाद पश्चिमी सीट से लगातार पांच बार विधायक रह चुके थे. लेकिन 2004 के लोकसभा में उनके चुने जाने के बाद यह सीट खाली हो गई थी.

साल 2005 में इस सीट पर हुए उपचुनाव में राजू पाल ने मोहम्मद अशरफ को हरा दिया था. चुनाव के चार महीने बाद ही उनकी हत्या कर दी गई थी.

हत्या से केवल नौ दिन पहले ही राजू पाल की शादी पूजा से हुई थी.

राजू पाल की हत्या के एक साल बाद हुए उपचुनाव में पूजा पाल हार गईं थीं. लेकिन 2007 में वो बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर ही विधायक बनीं.

पूजा पाल इस समय इलाहाबाद पश्चिम सीट से बसपा की विधायक हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार