टॉक टॉक कॉल सेंटर के तीन भारतीय कर्मचारी गिरफ्तार

टॉक टॉक इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पिछले साल अक्तूबर में टॉकटॉक से जो डेटा चोरी हुई वो ब्रिटेन की सबसे बड़ी साइबर चोरियों में से एक है

लंदन की टेलिकॉम कंपनी टॉकटॉक ने इस बात की पुष्टि की है कि भारत में उसके कॉल सेंटर के तीन कर्मचारियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

टॉक टॉक ने बताया कि अपने डेटा सुरक्षा की समीक्षा के बाद ही उन्होंने पुलिस को सूचित किया था.

लेकिन कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि इस बात के कोई सबूत नहीं है कि जिन संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है उनका पिछले साल अक्तूबर में कंपनी में साइबर सुरक्षा को तोड़ने से कोई संबंध है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस सुरक्षा को तोड़ कर टॉकटॉक के करीब डेढ़ लाख ग्राहकों के बैंक खाता नंबर जैसे कई ब्यौरे चुरा लिए गए थे.

जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है वो संदिग्ध सीधे तौर पर टॉकटॉक के लिए काम नहीं करते बल्कि कोलकाता में विप्रो के एक स्थानीय कॉल सेंटर के कर्मचारी हैं.

कंपनी ने कहा, "हम इन मुद्दों को पहचान कर इनसे निपटने के लिए दृढ़संकल्प हैं और हम अपने ग्राहकों की जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए महत्वपूर्ण संसाधनों को लगाते रहेंगे."

भारतीय कंपनी विप्रो ने कहा कि डेटा चुराने के मामले में वह 'ज़ीरो टॉलरेंस' नीति का पालन करती है. विप्रो ने कहा, "हम इस मामले में जांचकर्ताओं का पूरा सहयोग करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार