सोमवार से हैदराबाद यूनिवर्सिटी में कक्षाएं शुरु

रोहित वेमुला इमेज कॉपीरइट AP

रोहित वेमुला की आत्महत्या के बाद हैदराबाद यूनिवर्सिटी में कामकाज सोमवार से दोबारा शुरू करने का फ़ैसला किया गया है.

यूनिवर्सिटी में कामकाज दोबारा शुरू करने के लिए अंतरिम वाइस चांसलर और छात्रसंघों की ज्वाइंट एक्शन कमेटी के बीच कुछ शर्तों के साथ समझौता हो गया है.

अंतरिम वाइस चांसलर प्रॉफ़ेसर एम पेरीयासामी ने बीबीसी को बताया, "छात्र कुछ शर्तों के साथ एक समझौता पर राज़ी हो गए हैं. यूनिवर्सिटी के हाथ में जो कुछ होगा वो किया जाएगा."

हालांकि ज्वाइंट एक्शन कमेटी के छात्र नेताओं से इस पर बातचीत के लिए संपर्क नहीं हो पाया.

यूनिवर्सिटी ने एक बयान जारी कर समोवार से कक्षाएं शुरू होने की जानकारी दी.

इमेज कॉपीरइट AP

हैदराबाद यूनिवर्सिटी के पीएच.डी छात्र रोहित वेमुला ने 18 जनवरी को आत्महत्या कर ली थी जिसके बाद से यूनिवर्सिटी का कामकाज बंद पड़ा था.

रोहित को उनके चार साथी छात्रों के साथ यूनिवर्सिटी के हॉस्टल से निकाल दिया गया था जिसके बाद रोहित ने हॉस्टल के कमरे में पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली थी.

इमेज कॉपीरइट Rohith Vemula facebook page

इसके बाद से देश भर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

प्रॉफ़ेसर पेरीयासामी ने कहा, "छात्रों को मिलने वाली फ़ेलोशिप और शिक्षकों और अन्य कर्मचारियों के वेतन भी सोमवार को दिए जाएंगे. "

प्रोफ़ेसर पेरीयासामी के मुताबिक़ मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कहा है कि यूनिवर्सिटी के कामकाज को सुचारू रूप से चलाने के लिए सारी सुविधाएं दी जाएंगी.

वहीं यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रॉफ़ेसर अप्पा राव पोदिले और अंतरिम वाइस चांसलर प्रॉफ़ेसर विपिन श्रीवास्तव को हटाने का फ़ैसला मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा बनाया गया न्यायिक आयोग लेगा.

इमेज कॉपीरइट AFP FACEBOOK

छात्र केन्द्रीय मंत्री बंडारु दत्तात्रेय के इस्तीफ़े की मांग कर रहे हैं.

बंडारु दत्तात्रेय ने मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को लिखे एक पत्र में अंबेडकर छात्र संगठन के सदस्यों को जातिवादी, अतिवादी और राष्ट्र विरोधी बताया था और उन पर कार्रवाई की मांग की थी.

दत्तात्रेय के ख़त के बाद मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एक महीने के अंदर वीसी अप्पा राव को पांच ख़त लिखा था और ये जानना चाहा था कि रोहित और उनके साथियों के ख़िलाफ़ क्या कार्रवाई हुई है.

रोहित के साथियों का आरोप है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय के दबाव के कारण ही यूनिवर्सिटी की कमेटी ने उनको सस्पेंड और हॉस्टल ने निकालने का फ़ैसला किया, जिससे तंग आकर रोहित ने ख़ुदकुशी की थी.

हालांकि बंडारु दत्तात्रेय और स्मृति ईरानी ने इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार