अरुणाचल: राज्यपाल को भेजा नोटिस वापस

सुप्रीम कोर्ट इमेज कॉपीरइट AFP

अरुणाचल प्रदेश में चल रहे राजनीतिक संकट के बीच सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार की याचिका स्वीकार करते हुए राज्यपाल ज्योति प्रसाद राजखोवा को भेजा गया नोटिस वापस मंगवा लिया है.

ये फ़ैसला संविधान के अनुच्छेद 361 के तहत लिया गया.

अनुच्छेद 361 के मुताबिक़ राज्यपाल और राष्ट्रपति अपनी ज़िम्मेदारियों और अधिकारों के निर्वहन के लिए किसी भी अदालत को जवाबदेह नहीं हैं.

लेकिन अदालतें उनके फ़ैसलों की समीक्षा ज़रूर कर सकती हैं.

हालाँकि सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वो अरुणाचल के मुख्यमंत्री, मंत्रियों और सचिवों के कंप्यूटरों की हार्ड डिस्क की प्रतियां बनाकर इन्हें लौटा दे.

इमेज कॉपीरइट

केंद्र सरकार की तरफ़ से पेश हुए अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने राज्यपाल के अधिकारों की तरफ़ ध्यान दिलाया उसके बाद कोर्ट ने ये फ़ैसला लिया.

हालांकि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री नाबाम टुकी की याचिका पर कोर्ट में सुनवाई जारी है.

इस याचिका में राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के केंद्र सरकार के फ़ैसले को चुनौती दी गई है.

इससे पहले 27 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल के वकील से वो रिपोर्ट पेश करने को कहा है जिसके आधार पर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया गया है.

अदालत ने इस मामले में केंद्र सरकार को भी नोटिस जारी किया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

गवर्नर की सिफ़ारिश और केंद्र में कैबिनेट के फ़ैसले के बाद राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया था.

कांग्रेस ने सरकार के इस फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी.

बीते शुक्रवार को केंद्र सरकार ने कांग्रेस की इस याचिका पर अपना जवाब सुप्रीम कोर्ट में दर्ज कराया था.

27 जनवरी को अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कोर्ट को बताया था कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाते वक़्त केंद्र सरकार ने राज्यपाल की अनुशंसा और दूसरी बातों का ध्यान रखा.

60 सदस्यों वाली अरुणाचल विधानसभा में कांग्रेस के 47 विधायक थे. इनमें से 21 विधायकों ने दिसंबर 2015 में बग़ावत कर दी, जिसके बाद नाबाम टुकी की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार अल्पमत में आ गई.

इन लोगों ने भाजपा के 11 विधायकों के साथ मिल कर नाबाम टुकी सरकार को सत्ता से हटाने का प्रयास किया. बाद में, कांग्रेस के 14 विधायकों को अयोग्य करार दे दिया गया.

कांग्रेस इस पूरे घटनाक्रम के लिए केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी को ज़िम्मेदार बताती है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार