50 हज़ार की पेंशन 'मांगने वालों' में सुरेश रैना

  • 5 फरवरी 2016
इमेज कॉपीरइट AFP Facebook page of Malini Awasthi

क्रिकेट के ज़रिये लाखों कमाने वाले भारतीय टीम के आॅल-राउंडर सुरेश रैना, फिल्म अभिनेता और सांसद राज बब्बर सहित 100 से अधिक यश भारती सम्मान पाने वालों ने 50 हज़ार रुपये मासिक पेंशन के लिए आवेदन पत्र भेजा है.

उत्तर प्रदेश सरकार ने ये पेंशन योजना यश भारती और पद्म सम्मान पाने वाले उन लोगों के लिए शुरू की थी जिनका जन्मस्थान या कर्मभूमि उत्तर प्रदेश में हो.

यश भारती से सम्मानित 141 लोगों को प्रदेश के संस्कृति विभाग द्वारा पेंशन के लिए आवेदन पत्र का प्रारूप भेजा गया था.

आवेदन की अंतिम तारीख 31 जनवरी थी. इनमे से 108 लोगों ने पेंशन के लिए आवेदन किया है.

अमिताभ बच्चन, जया बच्चन और उनके बेटे अभिषेक बच्चन भी यश भारती से सम्मानित हैं लेकिन वे पेंशन लेने से मना कर चुके हैं.

पेंशन मांगने वाले अन्य लोग में राज बब्बर की पत्नी नादिरा बब्बर, अभिनेता जिमी शेरगिल, नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी, शास्त्रीय गायिका गिरिजा देवी, रंगकर्मी राज बिसारिया, लोकगायिका मालिनी अवस्थी, क्रिकेटर मोहम्मद कैफ इत्यादि शामिल हैं. संस्कृति विभाग की प्रमुख सचिव अनीता मेश्राम ने कहा कि अभी उन्होंने आवेदन पत्र नहीं देखे हैं इसलिए किस-किसने पेंशन के लिए फॉर्म भरा है ये बता पाना अभी मुमकिन नहीं है.

लेकिन इसी विभाग की अधिकारी अनुराधा गोयल ने इस बात की पुष्टि की है कि सुरेश रैना सहित 108 लोगों ने यश भारती पेंशन योजना के लिए आवेदन पत्र भेजा है.

अनुराधा गोयल ने बताया, "कुछ लोगों का कहना है कि ये लोग अमीर हैं, इन लोगों को पेंशन की क्या ज़रुरत है? लेकिन इस पेंशन के लिए आर्थिक योग्यता आधार नहीं रखी गई है. इसे पाने के लिए व्यक्ति का गरीब होना ज़रूरी नहीं है."

पिछले साल शुरू हुई इस योजना के लिए प्रदेश के बजट में अभी तक कोई प्रावधान नहीं था लेकिन अनुपूरक बजट के ज़रिये वो कमी पूरी कर दी गई है.

अनीता मेश्राम के अनुसार पेंशन उस दिन से दी जाएगी जिस दिन से आवेदन पत्र पर आदेश पारित किया जाएगा.

गोयल ने आवेदकों के फॉर्म दिखाने से मना कर दिया.

इस बीच, क्रिकेटर सुरेश रैना ने कहा कि उनके पास उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से एक कागज़ आया था जिसे उन्होंने भरकर वापस भेज दिया है.

सुरेश रैना ने कहा कि उन्हें ये मालूम है कि यश भारती से सम्मानित लोगों को प्रदेश सरकार पेंशन देगी.

इसी मसले पर राज बब्बर ने अपना फ़ोन नहीं उठाया.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)