ब्राज़ीली गाना और दिल में बस गया ताजमहल

ताजमहल इमेज कॉपीरइट Thinkstock

भारत के बारे में इतिहास का पहला सबक मुझे जवाहरलाल नेहरू से नहीं मिला था और न ही सुनील खिलनानी से, बल्कि यह एक मशहूर ब्राज़ीली गाने से मिला था.

जोर्गे बेन शास्त्रीय गीतों के लेखक हैं और जोर्गे बेन जोर के नाम से मशहूर हैं. 'मास क्यू नादा' जैसे गाने से उन्हें विश्वभर में पहचान मिली है.

उनके गीत अक्सर जीवन के जश्न के होते हैं, प्यार और फ़ुटबॉल के, जिनमें ख़ुद ही डाले गए, उछाले गए बेमतलब अक्षर होते हैं जिन्हें जैज़ में 'स्कैट्स' कहा जाता है.

लेकिन मुझे 'भारतीय इतिहास का सबक' उनके एक और दूसरे हिट गाने 'ताजमहल' से मिला था, जो 70 के दशक की शुरुआत में बनाया गया था.

इसमें बेन कहते हैं, "यह वह सबसे अच्छी प्रेम कहानी है जो आज तक मुझे किसी ने सुनाई है और जो मैं नहीं बताऊंगा. राजकुमार शाहजहां और राजकुमारी मुमताज़ महल की प्रेम कहानी."

(यह गाना सुनने के लिेए यहां क्लिक करें)

बेन कम शब्दों में ही अपनी बात कह जाते हैं. वह रवींद्रनाथ टैगोर के बजाय जेम्स ब्राउन के ज़्यादा क़रीब हैं.

उनके गाने मुख्यतः कॉन्टेजियस ग्रूव जैसे हैं और उनकी कविता सीधे छंदों से बनी ही है और अक्सर धुन के साथ चलती है. ये किसी तरह के राजनीतिक संदेश की गूढ़ जानकारी नहीं देतीं.

इसलिए 'ताजमहल' के बोल कभी भी उन छंदों से बाहर नहीं जाते जो मैंने ऊपर बताए हैं. उसके बाद बेन अपना स्कैट करने लगते हैं: "ते-ते-ते-रे-ते, ते-ते-ते-रे-ते," इसके बाद कोरस आता है जो बस "ताज महाल, ताज महाल" गाता है.

इन्हें सुनने पर ऐसा नहीं लगता कि ये समझ आ रहे हैं लेकिन बेन के स्कैट को चुपके से ब्रितानी गायक, संगीतकार रॉड स्टीवर्ट ने उठा लिया था और 70 के दशक के दुनिया भर में प्रसिद्ध हुए अपने गाने 'डू यू थिंक आई एम सैक्सी' में बदल दिया था.

अगर आपको मौका मिले तो 'ताजमहल' को सुनें और फिर 'डू यू थिंक आई एम सैक्सी' जो यूट्यूब या स्पॉटिफ़ाइ पर एक के बाद आते हैं. यह असंभव है कि आप इनमें समानता को न देख पाएं.

बेन का कहना था कि उन्होंने कभी भी स्टीवर्ट पर मुक़दमा करने के बारे में नहीं सोचा, क्योंकि इस गाने से जो भी कमाई हुई स्टीवर्ट ने उसे यूनिसेफ़ को दान कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट no

आसानी से बात कहने की अपनी शैली के तहत इस ब्राज़ीली कलाकार ने दावा किया, "यह अच्छा नहीं लगेगा कि छोटे बच्चों से पैसा ले लिया जाए".

लेकिन अब हम रास्ते से न भटककर वापस उसी मुद्दे पर आते हैं जिससे यह लेख शुरू हुआ था.

कुछ हफ़्ते पहले जब मैं भारत आया और आगरा जाकर इस विस्मयकारी ख़ूबसूरत इमारत को देखा, उससे पहले तक सालों तक मैं इस वैश्विक धरोहर के निर्माण के बारे में बहुत कम जानता था.

मुझे आशंका है कि बेन ख़ुद भी कभी इस ऐतिहासिक जगह नहीं गए होंगे और न ही 17वीं शताब्दी के भारत के इतिहास को ज़्यादा जाना होगा.

लेकिन संभवतः वह इस आलीशान इमारत की तस्वीर से अभिभूत हो गए थे जिसे एक मुगल बादशाह ने अपनी सबसे ज़्यादा चहेती बीवी के मकबरे के लिए बनाया था.

मुझे इस बारे में कोई बहुत ज़्यादा जानकारी नहीं है लेकिन मैं कल्पना कर सकता हूं कि यह गाना तब लिखा गया होगा जब बेन ने एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका में 'ताज महल' को ढूंढा होगा और इसके साथ ही ताल बैठाता हुआ गाना बना दिया होगा.

उन दो बेहद संक्षिप्त छंदों के अलावा बाद में भी बहुत कम जानकारी हासिल हुई लेकिन उस ख़ूबसूरत और रहस्यमयी जगह की छवि मेरे दिमाग़ में तबसे अंकित रही जबसे मैंने वह गाना सुना.

दो हफ़्ते पहले मैं बेन के शब्दों की पुष्टि कर सका. ताजमहल प्यार की याद में बना शायद सबसे शानदार स्मारक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार