'मुंबई पर हमले की दो कोशिशें नाकाम रही थीं'

इमेज कॉपीरइट AP

मुंबई पर 26/11 को हुए चरमपंथी हमलों से पहले भी दो बार हमले की कोशिश की गई थी. दोनों बार हमला कर रही टीमों में 10-10 लोग शामिल थे.

मुंबई हमलों के मामले के सरकारी वकील उज्जवल निकम ने मीडिया को बताया कि ये जानकारी 26/11 के अभियुक्त डेविड हेडली ने अमरीका से वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के ज़रिए मुंबई की एक अदालत को दी है.

सोमवार सुबह से ही अभियुक्त डेविड हेडली अमरीका से अदालत को अपनी गवाही दे रहे थे.

निकम ने हेडली के हवाले से कहा कि वो मुंबई हमलों से पहले दो बार ऐसा हमला करने की कोशिश कर रहे थे, उनकी बोट समुद्र में चट्टान से टकरा गई थी और असला-बारूद पानी में गिर गया था.

पढ़ें : क्या सारे राज़ उगल देगा डेविड हेडली
इमेज कॉपीरइट

उनके अनुसार हेडली ने पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई के मेजर इक़बाल और मेजर अली से अपने संबंध के बारे में भी बताया.

उन्होंने कहा कि सोमवार को हेडली से क़रीब सात घंटे तक सवाल-जवाब हुए. हेडली की गवाही मंगलवार को भी जारी रहेगी.

उनके मुताबिक़ हेडली ने पूछताछ में बताया कि जकीउर रहमान लखवी ने भारत के ख़िलाफ़ जिहाद और जंग कैसे करनी है, इसकी पूरी जानकारी उन्हें दी थी.

इमेज कॉपीरइट AP

हेडली ने 2002 में लश्कर में शामिल होने के बाद अपना नाम बदल लिया था, ताकि वो पहचान छिपा कर भारत आ सके. लश्कर ने उन्हें दो साल का प्रशिक्षण दिया था, इसमें उन्हें हथियार चलाने और बम धमाके की ट्रेनिंग शामिल थी.

उन्हें पेशावर में 2002 में ड्रग स्मगलिंग के जुर्म में गिरफ़्तार किया था. वो भारत में हथियार भेजने के लिए ड्रग तस्कर से मिलना चाहते थे.

लखवी ने हेडली को कश्मीर में लड़ने के लिए भेजने से मना कर दिया था और कहा था कि उन्हें कोई बड़ी जानकारी दी जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार