'विधानसभा चुनाव का ट्रेलर है यूपी उपचुनाव'

Image caption संजीव बाल्यान, भाजपा नेता

आगामी 13 फ़रवरी को पश्चिमी उत्तर प्रदेश की मुज़फ़्फरनगर और देवबंद विधानसभा की सीटों पर उपचुनाव होने वाले हैं. भारतीय जनता पार्टी इस चुनाव को काफ़ी गंभीरता से ले रही है.

इसका अंदाज़ा इससे लगाया जा सकता है कि पार्टी ने अपने केंद्रीय कृषि और खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री संजीव बाल्यान को बीते कई दिनों से चुनाव प्रचार में झोंक रखा है.

बाल्यान ने बीबीसी हिंदी से बातचीत से कहा, "बहुत महत्वपूर्ण चुनाव है. तीन सीटों पर उपचुनाव है, तीनों सीट समाजवादी पार्टी के पास थी. मुजफ़्फरनगर और देवबंद की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान रही है. इन दोनों सीटों पर मुझे लगता है कि भारतीय जनता पार्टी जीतेगी."

Image caption मुजफ़्फ़रनगर दंगे में हुई तबाही

बाल्यान ये भी मानते हैं कि अगर उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी जीत हासिल करती है तो इससे 2017 के विधानसभा चुनाव को लेकर संकेत मिलेगा और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं में संदेश जाएगा.

बाल्यान ने इसे और ज़्यादा स्पष्ट करते हुए कहा, "समाजवादी पार्टी सत्ता का दुरुपयोग ख़ूब करती है. ऐसी स्थिति में अगर हम दो सीट जीत लेते हैं तो एक माहौल बनेगा. इनकी सरकार रहते हुए हम दो सीट छीन लेते हैं तो कार्यकर्ताओं के हौसले बुलंद होंगे. यही वजह है कि हम इन सीटों को जीतने के लिए इतनी मेहनत कर रहे हैं."

बाल्यान ये भी मानते हैं कि 2017 के विधानसभा चुनाव की पिक्चर के लिए ये उप चुनाव ट्रेलर साबित होंगे.

Image caption मुजफ़्फरनगर दंगे से प्रभावित हुए लोग राहत शिविर में

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों की एक राय ये भी है कि नरेंद्र मोदी की केंद्र सरकार मुजफ़्फ़रनगर के रास्ते बनी. साल 2013 के दौरान इन इलाकों में हुए दंगों और उसके बाद महापंचायत के आयोजन से जो हवा बनी उसका उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को फ़ायदा हुआ.

लेकिन संजीव बाल्यान इससे इत्तेफाक़ नहीं रखते. वे कहते हैं, "ये बिलकुल ग़लत बात है. केंद्र की सरकार गुजरात के मॉडल पर बनी. उस चुनाव में दो ही मुद्दे थे-भ्रष्टाचार और विकास. इन दोनों ही मुद्दों पर जनता ने भाजपा के पक्ष में मतदान किया."

बाल्यान उपचुनावों में ध्रुवीकरण की कोशिश से इनकार करते हैं. वे पूछते हैं, "भारतीय जनता पार्टी को सभी वर्गों का विश्वास हासिल है, यह भला क्यों ध्रुवीकरण करेगी. हम जाति की दीवार तोड़ेंगे."

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मुजफ़्फरनगर दंगे के बाद तैनात सुरक्षा बल के जवान

उनके मुताबिक राज्य में सभी तबके के समर्थन से पार्टी को 73 सीटें मिली थीं, ऐसे में उनका आरोप है कि ध्रुवीकरण की कोशिश समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी कर रही है.

इसके अलावा केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री ने राज्य सरकार पर तुष्टीकरण की राजनीति करने और अपराधियों के प्रति नरम रवैया अपनाने के आरोप लगाया है.

वे कहते हैं, "सारे अपराधी तो समाजवादी पार्टी के सदस्य हैं. सत्ताधारी पार्टी का सदस्य होने के कारण सरकार उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई नहीं करती है. इससे लोगों में गुस्सा है."

इमेज कॉपीरइट AFP

हालांकि सांप्रदायिक दंगे भड़काने के लिए अपने ऊपर लगे आरोपों पर संजीव बाल्यान ने कहा कि जब तक हत्यारों को छोड़ा जाता रहेगा, वो विरोध में आवाज़ उठाते रहेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार