जेएनयू छात्राओं की 'वेश्याओं' से तुलना

जवाहर यादव इमेज कॉपीरइट Jawahar Yadav

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के एक पूर्व सहायक ने जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्राओं की तुलना वेश्याओं से की जिसे लेकर विवाद हो गया है.

जवाहर यादव फ़िलहाल हरियाणा हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष हैं.

उन्होंने एक ट्वीट में जेएनयू की छात्राओं की तुलना वेश्याओं से की थी.

हालांकि बाद में उन्होंने ये ट्वीट डिलीट कर अपने बयान को वापस लेते हुए लिखा, "मेरे किए गए ट्वीट के ग़लत भावार्थ निकाले गए. इसलिए मैं अपने बयान को वापिस लेता हूँ. मेरा उद्देश्य किसी की भावना को ठेस पहुंचाना नहीं था."

इमेज कॉपीरइट Twitter

कांग्रेस ने जवाहर यादव के बयान की निंदा करते हुए अपने अधिकारिक अकाउंट से ट्वीट किया गया, "ऐसे शर्मनाक बयान की हम कड़े शब्दों में निंदा करते है. एक स्वस्थ लोकतंत्र में ऐसे शब्दों की जगह नहीं हो सकती."

एक अन्य ट्वीट में जवाहर यादव ने लिखा, "मैंने उन तवायफ़ों को उन लड़कियों से बेहतर बताया है जो जेएनयू के कैंपस में देशद्रोह के नारे, कश्मीर ज़िंदाबाद के नारे और केरल की आज़ादी के नारे लगा रहीं थी."

उन्होंने लिखा, "वो तवायफ़ बहन बेटियां भी उनसे बेहतर हैं जो मज़बूरीवश अपना शरीर तो बेच देती हैं लेकिन भारत माँ को नहीं बेचती हैं."

जेएनयू की छात्रनेता राहीला परवीन ने जवाहर यादव के बयान पर बीबीसी से कहा, "बीजेपी के नेता बौख़लाहट में ऐसे बयान दे रहे हैं. वो छात्र आंदोलन से डर गए हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार