जेएनयू वीसी: छात्र कक्षाओं में लौट आएं

जेएनयू में छात्रों का विरोध

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने छात्रों से अपील की है कि वे हड़ताल ख़त्म कर कक्षाओं में लौट आएं.

छात्र संघ ने अध्यक्ष कन्हैया कुमार की गिरफ़्तारी के ख़िलाफ़ हड़ताल कर दी है और ऐलान किया है कि जब तक उनकी रिहाई नहीं होती, विश्वविद्यालय में कोई कामकाज नहीं होने दिया जाएगा.

बीते दिनों 9 फ़रवरी को जेएनयू परिसर में चरमपंथी मामलों में दोषी पाए जाने के बाद फांसी पर चढ़ाए गए अफ़ज़ल गुरु की बरसी पर एक कार्यक्रम हुआ था. इसमें कथित तौर पर भारत-विरोधी नारे लगाए जाने के आरोप लगे हैं.

इस मामले में विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गिरफ़्तार कर लिया गया है. कुमार ने तमाम आरोपों से इंकार किया है.

वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि इस मुद्दे पर हड़ताल की कोई ज़रूरत ही नहीं है. उनके अनुसार इसे बातचीत से भी सुलझाया जा सकता है.

उन्होेंने इसके साथ ही छात्रों से बात करने की अपील की और कहा कि बातचीत के लिए उनके दरवाज़े खुले हुए हैं.

उन्होंने कहा कि छात्रों को अपनी कक्षाओं में लौट आना चाहिए और पढ़ाई लिखाई फिर से शुरू कर देनी चाहिए.

उन्होंने अभिव्यक्ति की आज़ादी का समर्थन किया और कहा कि यह महत्वपूर्ण है.

इमेज कॉपीरइट AFP

दूसरी तरफ़ भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के पूर्व महासचिव प्रकाश करात ने कहा कि कुछ लोग पार्टी को बदनाम करने के लिए उसे राष्ट्रविरोधी बता रहे हैं, पर सीपीएम को इसकी कोई चिंता नहीं है.

पार्टी संघर्ष जारी रखेगी और इस मुद्दे पर जीत हासिल करके रहेगी.

सीपीएम के दफ़्तर ने दावा किया है कि उसके यहां फ़ोन कर धमकियां दी गई हैं. इसके बाद सीपीएम दफ़्तर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार