फ़्रीडम 251 स्मार्टफ़ोन 110 प्रतिशत घोटाला हैः भाजपा सांसद

किरीट सोमैया इमेज कॉपीरइट Kirit Somaiya facebook page

भारतीय जनता पार्टी के सांसद किरीट सोमैया ने कहा है कि सबसे सस्ते स्मार्टफ़ोन फ़्रीडम 251 की योजना एक 'पौंजी स्कीम' दिखाई दे रही है.

बीबीसी से बात करते हुए उन्होंने कहा, "मुझे 110 फ़ीसदी विश्वास है कि यह एक पौंजी कंपनी का बड़ा घोटाला है."

सुनिए फ़्रीडम 251 के बारे में क्या कहा किरीट सोमैया ने

उनके अनुसार, "एक प्रकार से दो-चार लोगों को कुछ एक चीजें दे देना और लाखों लोगों से पैसा इकट्ठा करना, इसी को पौंजी कंपनी घोटाला कहते हैं."

हालांकि इस फ़ोन को पेश करने वाली रिंगिंग बेल्स कंपनी का कहना है कि वो लोगों को 251 रुपए में स्मार्टफ़ोन मुहैया कराएगी.

कंपनी ने बुधवार को फ़्रीडम 251 स्मार्टफ़ोन पेश किया जिसे सबसे सस्ता स्मार्टफ़ोन कहा जा रहा है.

भाजपा के वयोवृद्ध नेता मुरली मनोहर जोशी ने फ़्रीडम 251 को लॉन्च किया था.

हालांकि गुरुवार को इसकी बुकिंग शुरू होते ही कंपनी की वेबसाइट क्रैश हो गई थी, क्योंकि एक साथ काफी लोगों ने लॉगिन किया.

कंपनी रिंगिंग बेल्स के प्रेसिडेंट अशोक चढ्ढा के बारे में सोमैया ने कहा, "इन महाशय ने 16 सितम्बर को जो कम्पनी खोली न उसका कोई व्यवसाय है, न कोई फाइनेंस है, न कोई गोडाउन है और न ही कोई अनुभव है."

सोमैया के मुताबिक, "चढ्ढा ने ऐसे ही कंपनी खोल दी और थोड़ा बहुत पैसा आया तो करोड़ दो करोड़ के विज्ञापन दे दिए. लाखों लोगों से पैसा इकट्ठा किया जाएगा और दो चार को फ़ोन दिया जाएगा."

उन्होंने कहा, "मैंने इस बारे में ट्राई, दूर संचार मंत्रालय और वित्त मंत्रालय के अधिकारियों से चर्चा की. कहीं से भी इन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं लिया है और जिस मोबाइल बात कर रहे हैं, वैसा कोई मोबाइल अस्तित्व में ही नहीं है."

इमेज कॉपीरइट EPA

दूसरी तरफ़, कंपनी के प्रेसिडेंट अशोक चढ्ढा ने बीबीसी को बताया, "हम ये कहना चाह रहे हैं कि हमारे पास इस फ़ोन की अच्छी खासी बुकिंग आने की उम्मीद है और इसीलिए हमने निर्णय लिया है कि जो भी बुकिंग आएंगी उनकी डिलीवरी जून तक करने की कोशिश करेंगे."

उन्होंने कहा कि मार्च के पहले सप्ताह से ही फ़ोन के पहले लॉट की डिलीवरी शुरू हो जाएगी.

अशोक चढ्ढा ने कहा, "हमने कुछ महीने पहले भी पांच इंच की स्क्रीन वाला एक फ़ोन लॉन्च किया था, जिसकी क़ीमत 2,999 रुपए है. इसे हम 25 या 26 फ़रवरी तक बना लेंगे और डिलीवरी कर पाएंगे. हम इस पर भी काम कर रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट EPA

उनके मुताबिक, "जब हमें पेमेंट गेटवे पर पैसा आया तो हमने कहा कि हम पैसे तभी लेंगे जब हम डिलीवरी कर देंगे."

फ़ोन की क़ीमत और कंपनी से जुड़े कई अन्य सवालों पर भी कोई स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है.

(किरीट सोमैया से बीबीसी संवाददाता अनुराग शर्मा और अशोक चढ्ढा से बीबीसी संवाददाता विनीत खरे की बातचीत पर आधारित.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार