प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

मीडिया पत्रकार है या पक्षकार?

20 फरवरी का बीबीसी इंडिया बोल कार्यक्रम सुनिए मोहन लाल शर्मा से

जेएनयू में कथित रूप से देश विरोधी नारों के बाद मीडिया में शुरू हुई राष्ट्रद्रोह बनाम राष्ट्रभक्ति की तीखी बहस.

लेकिन इस बहस को लेकर ही मीडिया में दरार क्यों?

चीखते एंकर पत्रकार कार्यक्रम में दूसरे की आलोचना कर रहे हैं.

एक संपादक दूसरे संपादक को ग़ैज़िम्मेदार बता रहा है.

क्या पत्रकारिता के सारे नियम-क़ानून दरकिनार और मर्यादाएँ बेमानी हो चुकी हैं?

इंडिया बोल में इसी पर हुई बहस कार्यक्रम में हिस्सा लिया एनडीटीवी के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार और आप श्रोताओं ने.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)