मोदी सरकार पर राहुल और केजरीवाल के वार

अरविंद केजरीवाल, राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट EPA

दिल्ली में रोहित वेमुला ख़ुदकुशी मामले और जेएनयू छात्रसंघ कन्हैया कुमार की गिरफ़्तारी के विरोध में छात्रों के निकाले मार्च में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी पहुंचे.

दोनों ने मोदी सरकार पर जमकर हमला किया और सरकार पर विरोध की आवाज़ दबाने का आरोप लगाया.

राहुल गांधी के भाषण की पांच प्रमुख बातें.

1.कॉलेज और यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्र किसी भी तरह के भेदभाव का शिकार ना बनें इसके लिए हमें एक सख़्त कानून चाहिए. ताकि उनकी आवाज़ दबाई ना जा सके.

2. जो छात्र संघ की विचारधारा से इत्तेफ़ाक़ नहीं रखते सरकार उनकी आवाज़ दबा रही है.

3. सरकार छात्रों के अलावा आदिवासी, दलित और दूसरे कमज़ोर वर्ग के लोगों की आवाज़ दबा रही है.

इमेज कॉपीरइट EPA

4. हम ऐसा भारत नहीं चाहते जिसमें एक ख़ास किस्म की विचारधारा ही लोगों पर थोप दी जाय. संघ चाहता है कि भारत में सिर्फ उन्हीं की विचारधारा को स्वीकृति मिले. जबकि हम चाहते हैं कि भारत विभिन्न आवाज़ों, विभिन्न विचारधाराओं वाला देश बने.

5. हम कन्हैया कुमार और रोहित वेमुला जैसे लोगों के लिए इंसाफ़ की मांग करते हैं. मैंने राष्ट्रपति जी का संसद में भाषण सुना. उन्होंने सरकार की तमाम उपलब्धियों की बातें की लेकिन रोहित मामले पर और जेएनयू जैसी यूनिवर्सिटी में जो हो रहा है उस पर कुछ नहीं बोले. ख़ेद की बात है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अरविंद केजरीवाल के भाषण की पांच बातें

1. मोदी जी, छात्रों के साथ मत उलझिए. वो आपकी कुर्सी को ऐसे हिलाएंगे कि आप भूल नहीं पाएंगे.

2. कन्हैया कुमार को उनके जुझारूपन के लिए शाबाशी मिलनी चाहिए ना कि उन पर हमले किए जाने चाहिए.

3.सभी गुंडों को राष्ट्रवाद का सर्टिफ़िकेट दिया जा रहा है और कन्हैया कुमार और आमिर ख़ान जैसे अच्छे लोगों को देशद्रोही बताया जा रहा है.

4. ये सरकार देश के छात्रों के साथ युद्ध छेड़ चुकी है.

5. जिन्होंने रोहित वेमुला को ख़ुदकुशी के लिए मजबूर किया उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार