माल्या ने कहा 'मैं भगोड़ा नहीं हूं'

  • 11 मार्च 2016
विजय माल्या इमेज कॉपीरइट Reuters

उद्योगपति विजय माल्या ने कहा है कि वो अंतरराष्ट्रीय कारोबारी हैं और भारत से न तो भागे हैं और न ही भगोड़े हैं.

अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने 9 मार्च को सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि माल्या 2 मार्च को ही देश छोड़ चुके हैं. बैंकों ने माल्या का पासपोर्ट जब्त करने संबंधी याचिका सुप्रीम कोर्ट में दी थी.

भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व वाले कंसोर्शियम ने 9000 करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज़ नहीं चुका पाने के मामले में माल्या के ख़िलाफ़ कोर्ट और ट्रिब्यूनल में अपील की है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को संसद में बयान दिया था कि माल्या को विदेश जाने से रोकने के लिए बैंकों को पहले ही कार्रवाई करनी चाहिए थी.

माल्या ने शुक्रवार को ट्वीट किया, “मैं अंतरराष्ट्रीय कारोबारी हूं. मैं भारत आता-जाता रहता हूं. मैं भारत से भागा नहीं हूं और न ही मैं भगोड़ा हूं.”

उन्होंने कहा कि एक भारतीय सांसद होने के नाते वो क़ानून का सम्मान और इसका पालन करते हैं.

उन्होंने ट्वीट किया, “हमारी न्यायिक व्यवस्था सही और सम्मानित है. लेकिन मीडिया ट्रायल नहीं होना चाहिए.”

अपनी संपत्ति के बारे में उठाए जा रहे सवालों पर माल्या ने ट्वीट किया, “ख़बरों में कहा जा रहा है कि मुझे अपनी संपत्ति घोषित करनी चाहिए. क्या इसका ये मतलब है कि बैंकों को मेरी संपत्तियों की जानकारी नहीं है? संसद में मेरी संपत्तियों की जानकारी मौजूद है.”

माल्या ने टेलीविजन चैनलों में उनके ख़िलाफ़ दिखाई जा रही ख़बरों पर भी नाराज़गी जताई.

उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि मीडिया को कई सालों तक उनसे मिली मदद, मेहमाननवाज़ी को नहीं भूलना चाहिए जो कि दस्तावेज़ों में दर्ज है. उन्होंने सवाल किया कि अब टीआरपी के लिए झूठ?

एक अंग्रेज़ी चैनल के एडिटर पर वो इस क़दर नाराज़ हैं कि उन्होंने कहा कि इस चैनल के एडिटर को सनसनीखेज़ झूठ बोलने के लिए जेल में होना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार