'गोरक्षक' की मौत के बाद राजकोट में तनाव

इमेज कॉपीरइट Reuters

गुजरात के राजकोट में गऊ रक्षा एकता समिति नाम के संगठन के एक सदस्य की कीटनाशक पीने से मौत के बाद तनाव है.

इस समिति के सदस्यों ने बुधवार को ज़िलाधिकारी मनीषा चंद्रा को एक ज्ञापन देकर देश में गोहत्या और गोमांस का निर्यात रोकने की मांग की थी.

समिति के सदस्यों ने ज्ञापन देते हुए कहा था, "अगर हमारी मांग पर 24 घंटों के भीतर कार्रवाई नहीं हुई तो गोरक्षक जिलाधिकारी कार्यालय पर ही आत्महत्या कर लेंगे."

पुलिस का कहना है कि गऊ रक्षा एकता समिति के आठ सदस्य गुरुवार को हाथों में कीटनाशक की बोतल लिए ज़िलाधिकारी के कार्यालय पहुंचे.

इमेज कॉपीरइट Getty

पुलिस के अनुसार, इससे पहले कि पुलिस उन्हें रोक पाती, उन्होंने कीटनाशक पी लिया.

समिति के अध्यक्ष भवेश मकवाणा ने कहा कि 'दिल्ली में गोरक्षक जंतर मंतर पर आंदोलन कर रहे हैं लेकिन दिल्ली सरकार हमारी बात नहीं सुनती है.'

शहर के पुलिस कमिश्नर अनुपम सिंह गहलोत का कहना है, "हमें ये सूचना कल ही मिली थी, इसीलिए पर्याप्त संख्या में पुलिस बल और एबुलेंस सर्विस जिलाधिकारी कार्याकल में मौजूद थे."

पुलिस का कहना है कि उनके कीटनाशक पी लेने के बाद उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया. सात लोग अब भी अस्पताल में भर्ती है और उनमें से दो की हालत गंभीर है.

गुरुवार शाम 40 वर्षीय गबरू भरवाड़ की मौत हो गई. इसके बाद गऊ रक्षा एकता समिति के सदस्य बड़ी संख्या में सड़कों पर उतर आए.

पुलिस कमिशनर गहलोत ने बताया कि हालात को देखते हुए स्टेट रिजर्व पुलिस फोर्स की अतिरिक्त कंपनियों को राजकोट में बुलाया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार