घोड़े के मामले में विपक्ष की दुलत्ती?

Image caption हरीश रावत पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के साथ

उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा की अगुआई में पार्टी का असंतुष्ट धड़ा मुख्यमंत्री हरीश रावत के ख़िलाफ़ एकजुट हो गया है. माना जा रहा है कि शुक्रवार को विधानसभा में बजट पास कराने में सरकार को काफ़ी कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है.

बजट पर भारतीय जनता पार्टी मतदान की मांग कर सकती है, क्योंकि उसे क्रॉस वोटिंग की उम्मीद है. उसे लगता है कि हरीश रावत से नाराज़ कांग्रेसी विधायक सरकार के ख़िलाफ़ वोट करेंगे.

अगर ऐसा होता है तो सरकार के लिए सदन के भीतर विश्वास का संकट हो जाएगा और उसे अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना पड़ सकता है.

इस बारे में कांग्रेस नेतृत्व आश्वस्त है. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि उन्हें ''पार्टी विधायकों पर पूरा भरोसा है और किसी के भी सरकार के ख़िलाफ़ जाने का सवाल ही नहीं उठता.''

उधर, बीजेपी उपाध्यक्ष और पार्टी विधायक पुष्कर सिंह धामी ने सरकार गिराने की रणनीति बनाने से इनकार किया है.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption पुलिस के घोड़े शक्तिमान का ऑपरेशन करना पड़ा

धामी के मुताबिक ''सरकार अपने ही अंतर्कलह से गिर जाएगी. बीजेपी को ऐसी किसी साज़िश की ज़रूरत नहीं है.''

माना जा रहा है कि सरकार पर आया संकट टालने और सदन में असंतुष्ट विधायकों के सरकार के ख़िलाफ़ जाने की आशंका ख़त्म करने के लिए ही बीजेपी विधायक गणेश जोशी को शक्तिमान मामले में हिरासत में ले लिया गया है.

जोशी ने सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन की अगुआई करते हुए पुलिस के घोड़े शक्तिमान को कथित तौर पर डंडों से बुरी तरह पीटा, जिससे उसकी टांग टूट गई. घोड़े का ऑपरेशन कर उसकी टांग काट दी गई है.

बीजेपी घोड़े के मामले में सरकार को घेरने की रणनीति पर ज़ोरशोर से जुटी रही.

इस सिलसिले में बीजेपी आलाकमान ने पार्टी प्रभारी श्याम जाजू और दूसरे वरिष्ठ नेताओं को देहरादून भेजा. दिल्ली से आए नेताओं की गुरुवार देर रात बीजेपी विधायकों से बातचीत चली.

इमेज कॉपीरइट TWITTER
Image caption भाजपा विधायक गणेश जोशी

कांग्रेस ने आज विधानसभा सत्र के दौरान अपने सदस्यों को मौजूद रहने के लिए व्हिप जारी किया है. दूसरी ओर, मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सरकार पर संकट से इनकार कर दिया है.

हरीश रावत ने कहा, "उत्तराखंड की जनता देखेगी और न्याय करेगी. वह सब समझती है. सरकार को कुछ नहीं होने जा रहा है. हम पर जनता का विश्वास है, बाबा केदार का आशीर्वाद है."

इस बीच कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि सरकार गिराने की साज़िश की जा रही है. लेकिन उन्हें अपने विधायकों पर पूरा भरोसा है कि वे डिगेंगे नहीं.

माना जा रहा है कि क़रीब 12 कांग्रेसी विधायक सरकार गिराने की कोशिश में बीजेपी का साथ दे सकते हैं.

इस बीच हरीश रावत खेमे ने भी अपनी गोटियां बिछा दी हैं. असंतुष्टों को मनाने के लिए ऐड़ी-चोटी का ज़ोर लगाया जा रहा है.

इन असंतुष्टों में पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा और वरिष्ठ मंत्री हरक सिंह रावत के नाम प्रमुख रूप से लिए जा रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार