यहां तैयार होते हैं बल्लेबाज़ों के 'मिसाइल लाँचर'

  • 22 मार्च 2016

भारत में इन दिनों क्रिकेट की धूम मची हुई है. वर्ल्ड टी20 के आयोजन से देश क्रिकेट के रंग में डूबा है.

ऐसे में बीबीसी संवाददाता सुहेल हलीम ने मेरठ में एक बैट बनाने वाली फ़ैक्टरी जाकर वहां बैट बनाने की बारीकियों के अलावा बैट के कारोबार को समझने की कोशिश की है.

बैट भी कोई एक तरह का नहीं होता, भले वह दिखता एक जैसा हो लेकिन उनमें काफ़ी अंतर भी हो सकता है.

इंग्लिश विलो और कश्मीरी विलो में क्या अंतर होता है और इंटरनेशनल स्तर पर धूम मचाने वाले क्रिकेटर अपने लिए किस तरह बैट तैयार करवाते हैं.

मशहूर क्रिकेटरों के बल्ले को तैयार करने के दौरान किन बातों का ख़्याल रखना होता है, कैसे कैसे हर बल्लेबाज़ अपनी शैली के मुताबिक़ बल्ला चाहता है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

इन सबकी पड़ताल करती रिपोर्ट ऊपर दिए गए वीडियो में देखिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार